सही ETF कैसे चुनें?

ETF क्या है?

ETF शेयरों की एक बास्केट होती है, जो किसी कंपनी के स्टॉक की तरह ही ट्रेड करते हैं. ETF आमतौर पर निफ़्टी या सेंसेक्स जैसे इंडेक्स को ट्रैक करता है.

ETF ही पैसिव फ़ंड्स है

ETF आम तौर पर मैनेज किए जाने वाले फ़ंड्स के मुक़ाबले कम ख़र्चीले होते हैं.

जोख़िम लेने की क्षमता देखकर ही चुनें ETF

सभी ETF किसी इंडेक्स को फ़ॉलो करते हैं, इसलिए निवेशक को अपनी जोख़िम लेने की क्षमता के आधार पर कोई फ़ंड चुनना चाहिए.

उदाहरण के तौर पर

निफ़्टी या सेंसेक्स ETF, निफ़्टी या सेंसेक्स को ट्रैक करता है, जिसमें सबसे अच्छी कंपनियां होती हैं. इस समय सेक्टोरल ETF, नेक्स्ट 50 ETF, क्वालिटी ETF और मोमेंटम ETF भी मौजूद हैं.

ट्रैकिंग एरर सबसे अहम

आसान शब्दों में, ये ETF और इंडेक्स से मिलने वाले रिटर्न के बीच का अंतर है. आम तौर पर, ट्रैकिंग एरर जितना कम होगा, फ़ंड उतना ही बेहतर परफ़ॉर्म करेगा.

कम होता है ख़र्च

इन्वेस्टर ETF इसलिए चुनते हैं क्योंकि वो एक्टिव इक्विटी फ़ंड की तुलना में कम ख़र्च में ख़ास इंडेक्स का परफ़ॉर्मेंस दिखाते हैं.

लिक्विडिटी की अहमियत

ETF पर फ़ैसला करने से पहले लिक्विडिटी की अहमियत को समझ लें ताकि आप आसानी से यूनिट्स ख़रीद और बेच सकें. आपको ऐसे ETF में निवेश करना चाहिए जिनमें ट्रेडिंग वॉल्यूम ज़्यादा हो.

प्योर इक्विटी फ़ंड में निवेश करें

हम प्योर इक्विटी फ़ंड (एक्टिव या पैसिव फ़ंड) में निवेश करने की सलाह देते हैं, और साथ ही किसी भी थीमैटिक फ़ंड से दूर रहने के लिए कहते हैं.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें