Platinum Industries IPO में निवेश करना सही है?

क्या करती है Platinum Industries

प्लेटिनम इंडस्ट्रीज़ बिक्री के हिसाब से भारत की तीसरी बड़ी PVC स्टेब्लाइजर निर्माता है. FY23 में इसका 13% मार्केट शेयर था. स्टेबलाइजर्स PVC को ख़राब होने और ऑक्सीडेशन से बचाता है.

Platinum Industries IPO की डिटेल

Platinum Industries IPO के बाद

Platinum Industries की फ़ाइनेंशियल हिस्ट्री

Platinum Industries के अहम रेशियो

Platinum Industries की पॉजिटिव बात

FY23 में 13% बाजार हिस्सेदारी के साथ भारत की तीसरी सबसे बड़ी PVC स्टेबलाइजर निर्माता है. निर्माण के क्षेत्र में PVC की बढ़ती मांग को देखते हुए ये कंपनी अच्छी ग्रोथ कर सकती है.

Platinum Industries की नेगेटिव बात-1

इसका रेवेन्यू कंसंट्रेटेड है. सितंबर 2023 तक इसके टोटल रेवेन्यू में टॉप 3 क्लाइंट का योगदान 75% का है. ये अपने रेवेन्यू का 54% पश्चिमी भारत से जेनरेट करती है.

Platinum Industries की नेगेटिव बात-2

कंपनी को कई बड़ी कंपनियों से कॉम्पिटीशन का सामना करना पड़ रहा है, जिससे इसकी ग्रोथ में असर पड़ सकता है. इसके अलावा PVC इंडस्ट्री ज़्यादा साइक्लिकल है.

Platinum Industries का डेट-टू-इक्विटी रेशियो

30 सितंबर, 2023 तक ये नेट कैश पॉज़िटिव कंपनी है.

डिस्क्लेमर

यहां Platinum Industries के IPO से जुड़े तमाम पहलुओं की जानकारी दी जा रही है. इसे हमारी तरफ इशू के लिए कोई रिकमंडेशन नहीं मानना चाहिए.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें