एक सरल म्यूचुअल फ़ंड पोर्टफ़ोलियो कैसे बनाएं?

ज़्यादातर कई फ़ंड्स में करते हैं निवेश

सबसे सरल Mutual Fund पोर्टफ़ोलियो कैसा होता है? क्या ये सिर्फ़ एक फ़ंड का हो सकता है? ये समस्‍या थ्‍योरेटिकल है, क्‍योंकि एक निवेशक के कई फ़ंड में निवेश की संभावना ज़्यादा होती हैं.

गिने-चुने लोगों का एक फ़ंड में निवेश

वैल्यू रिसर्च के सीईओ धीरेंद्र कुमार के मुताबिक़, फ़ंड निवेशकों के लिए ज़्यादा फ़ंड्स में निवेश कोई बड़ी बात नहीं. मगर एक ही फ़ंड में निवेश चाहने वाले लोग गिने-चुने ही होंगे.

ज़्यादातर का 10 से ज़्यादा फ़ंड्स में निवेश

अगर सवाल है कि लोग असल में कितने फ़ंड में निवेश करते हैं? तो आप ये जानकर चौंक जाएंगे कि ज़्यादातर भारतीय म्‍यूचुअल फ़ंड निवेशकों के पास 10 फ़ंड्स से ज़्यादा हैं.

समय के साथ बढ़ते जाते हैं फ़ंड

भले ही, 50 से ज़्यादा फ़ंड होना दुर्लभ नहीं है. लेकिन, ज़्यादातर लोग जिनके पास 10 या इससे कम फ़ंड हैं वो नए निवेशक हैं. इसमें कोई शक़ नहीं कि समय के साथ इनके फ़ंड भी बढ़ते जाएंगे.

लोग ज़्यादा फ़ंड में क्यों करते हैं निवेश

लोग, बहुत सारे फ़ंड में निवेश क्यों करते हैं? इसकी एक वज़ह डायवर्सिफ़िकेशन बताई जाती है, लेकिन अगर पूरा मार्केट ही गिरावट की ज़द में आ जाए, तो डाइवर्सीफ़िकेशन से ख़ास मदद नहीं करता.

कई फ़ंड्स को ट्रैक करना होता है मुश्किल

सवाल ये नहीं कि कई फ़ंड में निवेश से कोई फ़ायदा है या नहीं. पर, असल में होता ये है कि पोर्टफ़ोलियो में कई फ़ंड होने पर निवेश को ट्रैक करना और आकलन करना मुश्किल हो जाता है.

कैसे फ़ंड में करें निवेश

फ़ंड इक्विटी में निवेश का आसान और सुरक्षित तरीक़ा हैं. इसलिए, इक्विटी फ़ंड बेहतर रहेंगे और फ़ंड टाइप के तौर पर टैक्‍स-सेविंग फ़ंड और उसके बाद हाइब्रिड फ़ंड में निवेश करना चाहिए.

टैक्‍स-सेविंग फ़ंड का लॉक-इन

लंबे समय के निवेश के लिए टैक्‍स-सेविंग फ़ंड पर इसलिए ज़ोर दिया जाता है क्योंकि इनमें तीन साल का लॉक-इन पीरियड होता है. लॉक-इन से अच्‍छा रिटर्न पाने में मदद मिलती है.

हाइब्रिड फ़ंड में कब करें निवेश

टैक्‍स बचाने की ज़रूरत पूरी होने पर आप एक हाइब्रिड फ़ंड में निवेश कर सकते हैं. निवेशकों को फ़िक्‍स्ड इनकम और इक्विटी में संतुलन रखना चाहिए और इसके लिए हाइब्रिड फ़ंड अच्‍छे रहते हैं.

कितने फ़ंड में निवेश सही

धीरेंद्र कुमार की राय में फ़ंड्स की आदर्श संख्‍या 3 या 4 है. इससे ज्‍यादा फ़ंड का मतलब होगा, समय व मेहनत की बरबादी. पोर्टफ़ोलियो जितना सरल होगा, आप उसे उतने अच्छे से मैनेज कर पाएंगे।

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें