SCSS: देहांत के बाद क्या होगा पैसे का?

क्या है नियम

किसी सीनियर सिटिज़न सेविंग स्कीम अकाउंट होल्डर की मृत्यु की स्थिति में, पैसे निकालने पर कोई पेनल्टी नहीं लगती. नियम कहते हैं कि ऐसी स्थिति में अकाउंट बंद कर दिया जाना चाहिए.

वारिस को मिले पैसा

इसके अलावा, जमा किया गया पैसा, ब्याज सहित नॉमिनी या क़ानूनी वारिस को दे दिया जाएगा.

कब जारी रह सकता है अकाउंट

ज्वाइंट SCSS अकाउंट होने पर या जीवन-साथी के अकेला नॉमिनी होने पर, और जीवन-साथी SCSS के लिए तय योग्यता की शर्तें पूरी करता हो, तो अकाउंट को बनाए रखा जा सकता है.

दंपति ने अलग-अलग अकाउंट खोला है तो…

हालांकि, अगर दंपति ने अलग-अलग SCSS अकाउंट खोला है और उनमें से एक की मृत्यु हो जाए, तो मृत जीवनसाथी का SCSS अकाउंट जारी नहीं रह सकता.

कैसे बंद होगा अकाउंट

अकाउंट बंद करने के लिए, फॉर्म-3 में अकाउंट होल्डर के डेथ सर्टिफ़िकेट के साथ एप्लीकेशन जमा की जाती है. एप्लीकेशन फ़ॉर्म उस बैंक या पोस्ट ऑफ़िस से ले सकते हैं, जहां अकाउंट खुलवाया है.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें