SIP छोड़िए, STP बना सकती है ज़्यादा पैसा!

ये सच है अगर...

अगर आपके पास बैग भर कर कैश है और आप उसे निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं

एक ही बार में निवेश मत करें क्योंकि…

1. आप ग़लती से हाई मार्केट में निवेश कर सकते हैं. 2. आपको ख़र्च के औसत होने का फ़ायदा नहीं मिलेगा (जब मार्केट सस्ते हों तो ज़्यादा ख़रीदो और महंगा होने पर उसका उलटा करो)

क्या कोई बेहतर समाधान है?

हां, अपने निवेश को 12 से 36 महीने में बांट दें, जो इस बात पर निर्भर करेगा कि आपके निवेश किए जाने वाले धन का साइज़ और महत्व क्या है.

SIP और STP

अपने धन को एक अर्से के दौरान हिस्सों में बांट कर निवेश करने के दो तरीक़े हैं.

SIP क्या है?

SIP (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) आपके पैसे को बैंक अकाउंट से म्यूचुअल फ़ंड में ट्रांसफ़र करता है.

STP क्या है?

STP (सिस्टमैटिक ट्रांसफ़र प्लान) आपके पैसे को एक फ़ंड से निकाल कर दूसरे फ़ंड में डालता है.

लिक्विड या अल्ट्रा-शॉर्ट ड्यूरेशन फ़ंड से STP शुरू करें

ये फ़ंड सेविंग अकाउंट की तरह होते हैं मगर उससे ज़्यादा रेट ऑफ़र करते हैं. ये सेविंग अकाउंट से ज़्यादा कमाई कर सकते हैं.

मिसाल के तौर पर

किसी बड़े बैंक का सेविंग अकाउंट 3-3.5% की ब्याज दर ऑफ़र करता है. इसके मुक़ाबले, पिछले साल लिक्विड और अल्ट्रा-शॉर्ट ड्यूरेशन फ़ंड ने 6.5 और 7% का रिटर्न दिया.

मिसाल के तौर पर

मान लीजिए कि 2023 में आपने एक एवरेज फ़्लेक्सी-कैप फ़ंड में ₹5 लाख निवेश किए. ये पैसा 1). सेविंग बैंक अकाउंट में SIP के ज़रिए किया गया और 2). लिक्विड फ़ंड में STP के ज़रिए.

दोनों ऑप्शन से हुई कमाई

आपकी इन दोनों से आपकी कमाई हुई: 1. SIP: ₹5.8 लाख. 2. STP: ₹5.89 लाख. साफ है कि STP आपको ज़्यादा पैसे बनाने में मदद कर सकते हैं! डिटेल के लिए लास्ट स्लाइड में लिंक दिया है…

हमारा नज़रिया

एकमुश्त रक़म है तो पैसे को लिक्विड/अल्ट्रा-शॉर्ट ड्यूरेशन फ़ंड में डालें. फिर, एक इक्विटी फ़ंड में STP शुरू करें. आप निवेश को लंबे अर्से में बांटकर ज़्यादा कमाई कर पाएंगे.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें