PPF क्या है? 8 प्वाइंट में समझें

1. लंबे समय की बचत

केंद्र सरकार द्वारा स्थापित, PPF टैक्स बचाने के साथ-साथ लंबे समय की बचत के फ़ायदे देता है, जो भविष्य के लिए सिक्योर इनकम का ज़रिया बनती है.

2. कैपिटल की सुरक्षा और महंगाई का असर

PPF के सरकार द्वारा समर्थित होने से कैपटिल की सुरक्षा तो मिलती है मगर ये महंगाई दर से नहीं बचाता, जिससे घटती-बढ़ती दर के दौर में असल रिटर्न पर असर पड़ता है.

3. गारंटी और ब्याज़ दर

PPF की ब्याज़ दर G-sec रेट से जुड़ी होती है और इसके 0.25% के दायरे में रहती है, जिसे हर तिमाही पर रिव्यू किया जाता है. मौजूदा रेट: 7.10% है जो सालाना कंपाउंड होता है.

4. लिक्विडिटी और विथड्रॉल का ऑप्शन

15-साल के लॉक-इन पीरियड के बावजूद , PPF में लोन और आंशिक रूप से पैसे निकालने की सहूलियत के चलते लिक्विडिटी रहती है, हालांकि इसके लिए कुछ शर्तें होती हैं.

5. PPF में टैक्स के फ़ायदे

इसमें टैक्स-फ़्री डिपॉज़िट और मेच्योरिटी पर मिलने वाले पैसे पर कोई टैक्स नहीं देना होता, क्योंकि इसका EEE स्टेटस है. सेक्शन 80C के तहत आपको हर साल ₹1.5 लाख की टैक्स छूट भी मिलती है.

6. PPF अकाउंट कैसे खोलें और ऑपरेट करें

इसे आप पोस्ट-ऑफ़िस, बैंक में ज़रूरी डॉक्यूमेंट्स के साथ खोल सकते हैं और इस अकाउंट को पे-इन स्लिप, पासबुक या ऑनलाइन बैंकिंग के ज़रिए ऑपरेट कर सकते हैं.

7. PPF से बाहर निकलने के ऑप्शन और स्मार्ट स्ट्रैटजी

आपको समय से पहले अकाउंट बंद करने से जुड़ी पेनल्टी और स्ट्रैटजी की टिप समझनी चाहिए ताकि आप लंबे समय के दौरान PPF में निवेश के मिलने वाले फ़ायदों को ज़्यादा से ज़्यादा पा सकें.

8. PPF की कुछ ख़ास बातें

इसके लिए एलिजिबल होने शर्त से लेकर टेन्योर और निवेश सीमा तक, PPF के ज़रूरी पहलुओं को देखें.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें