Share Market में गिरावट, क्या बंद कर दें SIP?

पैसे को सेफ करने का चक्कर

शेयर बाज़ार में भारी गिरावट के समय कुछ निवेशकों के मन में अपने पैसे को बचाने का विचार आता है. इस सतर्कता के चक्कर में गिरावट के दौर में वे SIP के जरिए निवेश बंद कर देते हैं

तेज़ी के दौर में लौटते हैं

और, जब बाजार में वापस तेजी का दौर आता है तो वे कमाई की उम्मीद में निवेश फिर से शुरू कर देते हैं. लेकिन क्या ऐसा करना फ़ायदेमंद होता है?

होता है नुक़सान

हालांकि, तेज़ी या गिरावट के आधार पर निवेश बंद करना या शुरू करना निवेशक के लिए किसी तरह से भी फ़ायदेमंद नहीं है, उलटा इससे नुकसान ही होता है.

कौन सा मौका गंवा देते हैं निवेशक

गिरावट में निवेश बंद करने पर आप ख़रीद की क़ीमत के औसत को कम करने का मौका गंवा देते हैं. असल में, जब निवेश करना चाहिए, तो आप बाहर हो जाते हैं और मुनाफ़े का मौका गंवा देते हैं.

….यहीं काम आती है SIP

निवेशकों के ऐसे व्‍यवहार को हतोत्‍साहित करने के लिए ही तो SIP बनाई गई है. SIP के ज़रिए निवेश करने का मतलब है कि बाज़ार में गिरावट हो या तेज़ी, आप हर दौर में निवेश करते हैं.

SIP में अनुशासन मायने रखता

SIP निवेशक के डर और लालच पर नियंत्रण रखती है. अगर आप SIP के ज़रिए निवेश कर रहे हैं तो सबसे ज़्यादा अनुशासन मायने रखता है न कि निवेश का समय.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें