Life Insurance ख़रीदने की 5 ज़रूरी बातें

इंश्योरेंस ख़रीदने में ग़लती

लाइफ़ इन्‍श्‍योरेंस ख़रीदते समय सबसे पहले दिमाग में आता है कि कवर कितना होना चाहिए. ज़्यादातर, इन्‍श्‍योरेंस कवर ज़रूरतें पूरी करने के लायक नहीं होता.

कितना लाइफ़ कवर काफ़ी होगा

इसका फ़ैसला करने का एक ही सही तरीक़ा है कि आप नीचे दी जा रही 5 बातों पर ध्यान दें. इससे ज़रूरतें पूरी करने के लायक़ इंश्योरेंस कवर लेने में आसानी होगी.

1. रिटायरमेंट में कितना समय बचा है?

Term Insurance लेने से पहले रिटायर होने में बाक़ी बचा समय देखें. यानी, कितने समय तक आपके परिजन आर्थिक रूप से आप पर निर्भर रहेंगे.

2. आप पर कितना क़र्ज़ है?

जहां तक संभव हो आप अपने हर बड़े क़र्ज़ के लिए एक इन्‍श्‍योरेंस पॉलिसी लेकर रखें. ताकि आपके न रहने पर इंश्योरेंस कंपनी उस कर्ज़ का भुगतान कर दे.

3. भविष्‍य के ख़र्च क्या हैं?

ये पता करें कि आपके न रहने पर परिवार को ख़र्च के लिए कितने पैसे ज़रूरी होंगे. एक अनुमानित रक़म तय करके 7% सालाना महंगाई दर के हिसाब से कैलकुलेट कर सकते हैं.

4. बच्चों की एजुकेशन का ख़र्च

आपको ऐसा टर्म प्‍लान चाहिए जो आपके न रहने पर बच्चों की पढ़ाई का ख़र्च पूरा कर सके. दूसरे शब्‍दों में, आपको पारंपरिक लाइफ़ इंश्‍योरेंस को छोड़ कर टर्म प्‍लान लेना चाहिए.

5. ज़रूरी ख़र्च का पता लगाएं

इस बात का अंदाज़ा लगाएं कि परिवार को ज़रूरी ख़र्च के लिए कितने पैसों की ज़रूरत होगी. इसके लिए फ़ाइनेंशियल प्लान बनाएं औऱ निवेश का फ़ैसला करें.

लाइफ़ इंश्योरेंस का कवर कैसे तय होगा

कवर की रक़म मौजूदा लाइफ़स्‍टाइल, सालाना फ़ैमिली इनकम, सालाना ख़र्च, मौजूदा निवेश और होम लोन या एजुकेशन लोन जैसी ज़रूरतों के आधार पर तय कीजिए.

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

और देखें