हाइब्रिड फ़ंड क्या होते हैं?

इस कैटेगरी में एक से ज़्यादा एसेट क्लास यानी इक्विटी, डेट और दूसरे विकल्पों में निवेश किया जाता है. इससे पोर्टफ़ोलियो डायवर्सिफ़ाई हो जाता है और रिस्क कम रहता है. इसके और फ़ायदे जानिए...

1. डेट फ़ंड से ज़्यादा रिटर्न

हाइब्रिड फ़ंड में डेट फ़ंड (Debt Fund) से बेहतर रिटर्न मिलते हैं.

2. उतार-चढ़ाव का कम रिस्क

इक्विटी फंड्स की तुलना में उतार-चढ़ाव का रिस्क कम होता है. दरअसल, इक्विटी में गिरावट से डेट फ़ंड के निवेश से भरपाई हो जाती है.

3. डाइवर्सिफ़ाइड पोर्टफ़ोलियो

अलग-अलग तरह के निवेशों में पैसा लगाना डाइवर्सिफ़िकेशन है. इन फ़ंड्स का पोर्टफ़ोलियो ज़्यादा डायवर्सिफ़ाइड होता है. इससे शॉर्ट टर्म में गिरावट की आशंका कम हो जाती है.

4. नए इन्वेस्टर्स के लिए बेहतर

नए इन्वेस्टर्स और ऐसे लोग, जिनकी पहली चिंता इक्विटी मार्केट के उतार-चढ़ाव से अपना पैसा सुरक्षित रखने की होती है, उनके लिए ये स्कीम बेहतर होती है.

धनक पर क्या है?

धनक पर आप हाइब्रिड फ़ंड की क़रीब 7 कैटेगरी के अलग-अलग रिटर्न देख सकते हैं. इनमें एक दिन से लेकर, 10 साल तक का रिटर्न शामिल है.

और देखें