IPO अनालेसिस

IPO: भारती हेक्साकॉम

आइए जानते हैं कि क्या इस कम्युनिकेशन सॉल्यूशंस कंपनी के इशू के लिए सब्सक्राइब करना चाहिए या नहीं

IPO: भारती हेक्साकॉम

भारती हेक्साकॉम (भारती एयरटेल की सहायक कंपनी) एक मोबाइल, फ़िक्स्ड-लाइन टेलीफ़ोन और ब्रॉडबैंड सर्विस प्रोवाइडर है जिसने अपना IPO (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग) लॉन्च कर दिया है. फ़ैसले लेने में निवेशकों की मदद के लिए हमने इस लेख में कंपनी की ताक़त, कमज़ोरियों और ग्रोथ की संभावनाओं के बारे में बताया है.

संक्षेप में

  • क्वालिटी: इसका तीन साल का औसत रिटर्न ऑन इक्विटी (ROE) और औसत रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉयड (ROCE) क्रमशः 2.1 और 4.4 फ़ीसदी रहा है. इसके अलावा, पिछले तीन साल (FY) में इसका कैश फ़्लो भी सकारात्मक रहा है.
  • ग्रोथ: मोबाइल सर्विसेज के ज़्यादा इस्तेमाल के कारण कंपनी ने FY21-FY23 के दौरान अपने रेवेन्यू में सालाना 19.6 फ़ीसदी की बढ़ोतरी की. नतीजा, मोबाइल सर्विस के ARPU (एवरेज़ रेवेन्यू पर यूज़र) में 17.1 फ़ीसदी की सालाना बढ़ोतरी हुई.
  • वैल्यूएशन: स्टॉक का P/E और P/B क्रमशः 58.9 और 7.2 गुना है.
  • मार्केट में कंपनी की स्थिति: कंपनी देश में कनेक्टिविटी की बढ़ती मांग का फ़ायदा उठाने के लिए तैयार है. कंपनी द्वारा 5G तकनीक को अपनाना आगे चलकर इसकी ग्रोथ में इज़ाफ़ा करेगा. वैसे तो कंपनी की स्थिति मज़बूत है, पर इसे रिलायंस जियो (Reliance Jio) से कड़ी टक्कर मिलती है. इसके अलावा, कंपनी के ऊपर बड़ा क़र्ज है और इस पर भी नज़र बनाए रखना ज़रूरी है.

भारती हेक्साकॉम के बारे में

भारती एयरटेल की सहायक कंपनी भारती हेक्साकॉम राजस्थान और भारत के नॉर्थईस्ट क्षेत्रों में टेलीकॉम और ब्रॉडबैंड सर्विस देती है. इसके मुख्य रूप से दो बिज़नेस सेगमेंट हैं:

  • मोबाइल सर्विस (प्री-पेड, पोस्ट-पेड और डेटा सर्विस) ने साल 2013 में कंपनी के रेवेन्यू में 98 फ़ीसदी का योगदान दिया.
  • होम और ऑफिस सर्विस (टेलीफ़ोन और ब्रॉडबैंड सर्विस) ने साल 2013 में कंपनी के रेवेन्यू में 2 फ़ीसदी का योगदान दिया.

भारती हेक्साकॉम की ताक़त

  • अपने प्रमुख ब्रांड यानी एयरटेल की वजह से इसकी भी मार्केट में एक अच्छी पहचान है.
  • नॉर्थईस्ट क्षेत्र के कुल मार्केट रेवेन्यू में इसकी हिस्सेदारी लगभग 53 फ़ीसदी है, जो कि 9MFY24 तक Jio की 43 फ़ीसदी हिस्सेदारी से ज़्यादा है.

भारती हेक्साकॉम की कमज़ोरियां

  • Reliance Jio से कड़ी टक्कर मिल रही है.
  • बहुत ज़्यादा कैपिटल-इंटेंसिव और रेगुलेटेड इंडस्ट्री में काम करना पड़ता है.

IPO की डिटेल

IPO का कुल साइज़ (करोड़ ₹) 4,275
ऑफर फॉर सेल (करोड़ ₹) 4,275
नए इशू (करोड़ ₹) -
प्राइज़ बैंड (₹) 542-570
सब्सक्रिप्शन की तारीख़ अप्रैल 03-05, 2024
इश्यू करने का मक़सद ऑफर फॉर सेल

IPO के बाद

मार्केट कैप (करोड़ ₹) 28,500
नेट वर्थ (करोड़ ₹) 4,416
प्रमोटर होल्डिंग (%) 70
प्राइज़/अर्निंग रेशियो (P/E) 58.9
प्राइज़/बुक रेशियो (P/B) 7.2

पिछले फ़ाइनेंशियल्स

फ़ाइनेंशियल्स 2Y ग्रोथ (% सालाना) TTM दिसंबर 2023 FY23 FY22 FY21
रेवेन्यू (करोड़ ₹) 19.6 6,953 6,579 5,405 4,602
EBIT (करोड़ ₹) 170.1 1,579 1,232 373 -233
PAT (करोड़ ₹) 59.1 484 549 1,675 -1,034
नेट वर्थ (करोड़ ₹)* 3,979 3,972 3,573 1,899
कुल डेट (करोड़ ₹)* 9,432 9,204 9,068 7,774
दिसंबर 2023 (9 महीने) तक नेट वर्थ और कुल डेट.
EBIT- अर्निंग बिफ़ोर इंटरेस्ट एंड टैक्स
PAT - प्रॉफ़िट आफ्टर टैक्स

रेशियो

रेशियो 3Y औसत (%) TTM दिसंबर 2023 FY23 FY22 FY21
ROE (%) 2.1 12.2 13.8 46.9 -54.5
ROCE (%) 4.4 9.1 10.72 4.1 -1.58
EBIT मार्जिन (%) 6.8 22.7 18.7 6.9 -5.1
डेट-टू-इक्विटी* 2.8 2.1 2.2 2.4 3.9
*9MFY24 तक डेट-टू-इक्विटी.
ROE - रिटर्न ऑन इक्विटी
ROCE - रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉयड

ये भी पढ़िए- निवेश शुरू करने के लिए Best Mutual Fund?

रिस्क रिपोर्ट

कंपनी और बिज़नेस

  • क्या पिछले 12 महीनों में भारती हेक्साकॉम की इनकम बिफ़ोर टैक्स ₹50 करोड़ से ज़्यादा है?
    हां. इसका TTM (ट्रेलिंग ट्वेल्व मंथ) प्रॉफिट बिफ़ोर टैक्स ₹892 करोड़ था.
  • क्या भारती हेक्साकॉम अपना बिज़नस बढ़ा पाएगी?
    हां. 5G के रोल-आउट होने के साथ-साथ कनेक्टिविटी की बढ़ती मांग से बिज़नेस को बढ़ाने में मदद मिलेगी.
  • क्या भारती हेक्साकॉम के पास लॉयल कस्टमर बेस है और क्या ये कंपनी किसी जानी-मानी ब्रांड से जुड़ी है?
    हां. भारती हेक्साकॉम जानी-मानी ब्रांड 'एयरटेल' के तहत काम करती है.
  • क्या कंपनी के पास कॉम्पिटिटिव एडवांटेज़ है?
    नहीं, ये एक कॉम्पिटिटिव माहौल में काम करती है.

मैनेजमेंट

  • क्या कंपनी के संस्थापकों में से किसी के पास अभी भी कंपनी में कम से कम 5 फ़ीसदी हिस्सेदारी है? या क्या प्रमोटरों के पास कंपनी में 25 फ़ीसदी से ज़्यादा हिस्सेदारी है?
    हां. IPO के बाद प्रमोटरों की हिस्सेदारी 70 फ़ीसदी हो जाएगी.
  • क्या टॉप तीन मैनजरों के पास भारती हेक्साकॉम में काम करते हुए कुल मिलाकर 15 साल से ज़्यादा का लीडरशिप अनुभव है?
    नहीं, टॉप तीन मैनजरों का कुल मिलाकर लीडरशिप अनुभव 15 साल है.
  • क्या मैनेजमेंट पर भरोसा किया जा सकता है? क्या कंपनी SEBI दिशानिर्देशों के तहत साफ़-सुथरी रिपोर्ट जारी करती है?
    हां. कोई नकारात्मक जानकारी उपलब्ध नहीं है.
  • क्या कंपनी की एकाउंटिंग पॉलिसी ठीक है?
    हां. कोई नकारात्मक जानकारी उपलब्ध नहीं है.
  • क्या भारती हेक्साकॉम प्रमोटर द्वारा अपने शेयर गिरवी रखने से मुक्त है?
    हां. ये प्रमोटर द्वारा अपने शेयरों को गिरवी रखने से मुक्त है.

फ़ाइनेंशियल्स

  • क्या कंपनी का वर्तमान और तीन साल का औसत रिटर्न ऑन इक्विटी (ROE) 15 फ़ीसदी से ज़्यादा और औसत रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉयड (ROCE) 18 फ़ीसदी से ज़्यादा है?
    नहीं, इसका तीन साल का औसत ROE और ROCE क्रमशः 2.1 और 4.4 फ़ीसदी है. इसका TTM ROE और ROCE क्रमशः 12.2 और 9.1 फ़ीसदी रहा.
  • क्या पिछले तीन साल के दौरान कंपनी का ऑपरेटिंग कैश फ़्लो सकारात्मक रहा है?
    हां. पिछले तीन साल में इसका ऑपरेटिंग कैश फ़्लो सकारात्मक रहा है.
  • क्या कंपनी का नेट डेट-टू-इक्विटी रेशियो 1 से कम है?
    नहीं, 31 दिसंबर 2023 तक इसका नेट डेट-टू-इक्विटी 2.1 गुना था.
  • क्या भारती हेक्साकॉम रोजमर्रा के कामों के लिए बड़ी वर्किंग कैपिटल पर निर्भरता से मुक्त है?
    हां. अपने बिज़नेस मॉडल और लगातार आ रहे ऑपरेटिंग कैश फ़्लो के कारण ये अपनी वर्किंग कैपिटल को सही से मैनेज कर पा रही है.
  • क्या कंपनी अगले तीन साल में बाहरी फ़ंडिंग पर निर्भर हुए बिना अपना बिज़नेस चला सकती है?
    नहीं, ये बहुत ज़्यादा कैपिटल-इंटेंसिव इंडस्ट्री में काम करती है और इसे काम आगे बढ़ाने के लिए पैसा जुटाने की ज़रूरत पड़ सकती है.
  • क्या भारती हेक्साकॉम बड़ी कंटिंजेंट लाएबिलिटीज़ से मुक्त है?
    हां. 31 दिसंबर 2023 तक इक्विटी के प्रतिशत के रूप में कंटिंजेंट लाएबिलिटीज़ 6.2 फ़ीसदी थीं.

वैल्यूएशन

  • क्या स्टॉक अपनी एंटरप्राइज़ वैल्यू पर 8 फ़ीसदी से ज़्यादा की अर्निंग यील्ड देता है?
    नहीं, स्टॉक अपनी एंटरप्राइज़ वैल्यू पर 4.2 फ़ीसदी अर्निंग यील्ड देगा.
  • क्या स्टॉक की प्राइज़-टू-अर्निंग अपने साथियों के औसत स्तर से कम है?
    लागू नहीं. स्टॉक की वैल्यू 58.9 गुना प्राइज़-टू-अर्निंग रेशियो पर है. तुलना के लिए कोई लिस्टेड साथी नहीं है.
  • क्या स्टॉक की प्राइज़-टू-बुक वैल्यू अपने साथियों के औसत स्तर से कम है?
    लागू नहीं. स्टॉक की वैल्यू 7.2 गुना प्राइज़-टू-बुक रेशियो पर है. तुलना के लिए कोई लिस्टेड साथी नहीं है.

डिस्क्लेमर : ये कोई सुझाव नहीं है. निवेश करने से पहले ज़रूरी जांच-पड़ताल कर लें.

ये भी पढ़िए- IPO के लिए होड़ फिर शुरू

धनक साप्ताहिक

बचत और निवेश करने वालों के लिए फ़्री न्यूज़लेटर


दूसरी कैटेगरी