इंश्योरेंस

क्या हैल्थ इंश्योरेंस ख़रीदना है? 7 अहम बातों पर ज़रूर करें ग़ौर

किसी बड़े झटके से बचने के लिए, आपको इसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत होती है. इसलिए, हैल्थ इंश्योरेंस प्लान के डॉक्यूमेंट को ऑनलाइन ज़रूर जांच लेना चाहिए

क्या हैल्थ इंश्योरेंस ख़रीदना है? 7 अहम बातों पर ज़रूर करें ग़ौर

इंश्योरेंस प्लान अक़्सर पॉलिसीधारकों को उस समय चौंकाते हैं, जब उन्हें इसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत होती है. ऐसी कई कहानियां आपने सुनी होंगी. इसलिए, हैल्थ इंश्योरेंस प्लान ख़रीदने से पहले बारीकी से उसके बारे में पढ़ना ज़रूरी है. निश्चित तौर पर, किसी योजना के नियम और शर्तों को पढ़ना मुश्किल लग सकता है लेकिन आप डॉक्यूमेंट को ऑनलाइन एक्सेस करके ख़ास शर्तों को खोजने के लिए एक शॉर्टकट (Ctrl + F) का इस्तमाल कर सकते हैं.

आपको जिन कीवर्ड पर ध्यान देने की ज़रूरत है वे इस तरह हैं:

सब-लिमिट (Sub-limit)

इसका क्या मतलब है: कई हैल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ख़ास सब-लिमिट जोड़ देती हैं, जिससे कमरे का किराया, ICU चार्जेस और डॉक्टर की फ़ीस जैसे ख़र्च सीमित हो जाते हैं. मिसाल के लिए, एक पॉलिसी कमरे का किराया 1 फ़ीसदी और ICU चार्जेस को कुल बीमा राशि का 2 फ़ीसदी तक सीमित कर सकती है. मिसाल के लिए, 10 लाख रुपये की पॉलिसी सिर्फ़ कमरे के किराए के लिए 10,000 रुपये और प्रति दिन आईसीयू शुल्क के लिए 20,000 रुपये तक कवर कर सकती है.

आपको क्या करना चाहिए: कृपया सब लिमिट की जांच करें. जब आपको देखभाल की सबसे ज़्यादा ज़रूरत हो तो कमरे के किराए जैसे बुनियादी ख़र्चों के लिए कम सब-लिमिट रखना परेशानी भरा हो सकता है. हकीकत में, इन पाबंदियों के बिना कोई प्लान चुनना बेहतर है. सब-लिमिट जितनी कम होगी, प्लान उतना ही फ़ायदेमंद होगा.

क्या आप जानते हैं?: आम तौर पर 10 लाख रुपये से कम की स्वास्थ्य बीमा योजनाओं में ऐसी सब लिमिट लगाए जाने की ज़्यादा संभावना होती है.

को-पे (Co-pay)

इसका क्या मतलब है: इसके मुताबिक़ आपको चिकित्सा ख़र्च का एक तय फ़ीसदी भुगतान करना होगा. मिसाल के लिए, अगर 5 लाख रुपये के अस्पताल के बिल पर 10 प्रतिशत को-पे यानी सह-भुगतान का प्रावधान है, तो बीमा कंपनी 4.5 लाख रुपये तक का कवर देगी. शेष राशि, जो इस मामले में 50,000 रुपये है, का भुगतान आपको करना होगा.

क्या आप जानते हैं?: जैसा कि कहा गया है, आमतौर पर ये क्लॉज 60 साल और उससे ज़्यादा उम्र के लोगों को दी जाने वाली पॉलिसी पर लागू होता है. ख़ासकर वरिष्ठ नागरिकों के लिए हैल्थ इंश्योरेंस ख़रीदते वक़्त इस पहलू की समीक्षा करना ज़रूरी है.

आपको क्या करना चाहिए: कहने की जरूरत नहीं है, कम को-पे प्रतिशत वाली पॉलिसी बेहतर है.

ये भी पढ़िए- Insurance Premium: समय पर जमा नहीं हुआ तो क्या होगा?

क्या कवर नहीं (Exclusion)

इसका क्या मतलब है: बीमा पॉलिसी सभी मेडिकल कंडीशंस और उपचारों को कवर नहीं करती हैं. इन एक्सक्लूज़न को स्थायी या अस्थायी में बांटा जा सकता है. मिसाल के लिए, आमतौर पर हैल्थ इंश्योरेंस में डेंटल केयर, कॉस्मेटिक प्रोसिजर्स और HIV उपचार कवर नहीं किए जाते हैं और इन्हें स्थायी एक्सक्लूज़न माना जाता है.

डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर जैसी पहले से मौजूद बीमारियों के लिए, कवरेज 'वेटिंग पीरियड' के बाद शुरू होता है, जो बीमाकर्ता के आधार पर दो से चार साल तक हो सकती है. ये अस्थायी एक्सक्लूज़न हैं.

आपको क्या करना चाहिए: अगर आपको ऐसी बीमारियां या कंडीशंस हैं जो 'अस्थायी एक्सक्लूज़न' के अंदर आती हैं तो कम से कम वेटिंग पीरियड वाली पॉलिसी पर नज़र रखें.

रिस्टोरेशन बेनेफ़िट (Restoration benefit)

इसका क्या मतलब है: अगर आपका सम एश्योर्ड एक साल के अंदर ख़त्म हो जाता है तो ये बेनेफ़िट उसे रिस्टोर कर देता है. ये मानते हुए कि अस्पताल में भर्ती होने की वजह से 10 लाख रुपये का इंश्योरेंस प्लान इस्तेमाल हो गया है, तो बीमा कंपनी पूरी राशि की भरपाई करती है. दूसरे शब्दों में, आपकी पॉलिसी की बीमा राशि 10 लाख रुपये की मूल राशि पर बहाल कर दी जा

क्या आप जानते हैं?: कुछ बीमाकर्ता असीमित पुनर्स्थापनों की इजाज़त देते हैं, जबकि दूसरे इसे सिर्फ़ एक बार ही सीमित करते हैं. इसके अलावा, कुछ नीतियां समान बीमारी और उपचार के लिए पुनर्स्थापना के फ़ायदे की इजाज़त नहीं देती हैं.

आपको क्या करना चाहिए: हालांकि पुनर्स्थापना लाभ पहली नज़र में लुभावने लग सकते हैं, लेकिन वे एक महंगी सुविधा हो सकते हैं इसलिए, सिर्फ पुनर्स्थापनों की संख्या के आधार पर नीतियों को प्राथमिकता न देना बुद्धिमानी है, क्योंकि वे प्रीमियम में उल्लेखनीय इज़ाफ़ा कर सकते हैं.

ये भी पढ़िए- लाइफ़ इंश्योरेंस कवर कैसे बढ़ाएं?

सालाना मेडिकल टेस्ट

इसका क्या मतलब है: बीमा पॉलिसीज़ में सालाना मेडिकल टेस्ट के लिए कवरेज की पेशकश बढ़ती जा रही है.

आपको क्या पता होना चाहिए: भले ही, ये बेनेफ़िट ज़रूरी नहीं है, लेकिन निश्चित तौर से इस पर ग़ौर किया जाना चाहिए. देखिए कि ये टेस्ट किन सेंटर्स पर हो सकती है, इसमें किस तरह के टेस्ट शामिल हैं और क्या आप कैशलेस आधार पर इन सर्विसेज का फ़ायदा उठा सकते हैं.

अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद में (Pre and post-hospitalisation)

इसका क्या मतलब है: ज़्यादातर हैल्थ प्लान अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद के इलाज के ख़र्चों को कवर करते हैं.

क्या आप जानते हैं?: इलाज की अवधि अलग-अलग हो सकती है.

आपको क्या करना चाहिए: आदर्श रूप से, आपको एक ऐसे प्लान की तलाश करनी चाहिए जो अस्पताल में भर्ती होने से पहले उपचार के लिए कम से कम 30 दिनों के कवरेज और छुट्टी के बाद देखभाल के लिए 30 से 60 दिनों के बीच का कवरेज देता हो.

घरेलू अस्पताल (Domiciliary hospitalization) में भर्ती होना या घर पर उपचार

इसका क्या अर्थ है: COVID में ये बेनेफ़िट सुर्खियों में आ गया था. ये सुविधा तब प्रासंगिक हो जाती है जब अस्पताल में भर्ती होना ज़रूरी तो है लेकिन नामुमकिन है. इसकी वजह या तो उपलब्ध बिस्तरों की कमी या मरीज की हालत के कारण मेडिकल फ़ैसिलिटी तक नहीं जा पाना हो सकती है.

क्या आप जानते हैं?: इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा इस बेनेफ़िट पर कुछ पाबंदी लगाना आम बात है. मिसाल के लिए, वे अक़्सर सिर्फ़ तीन दिनों तक के लिए घरेलू उपचार की इजाज़त देती हैं.

आपको क्या करना चाहिए: ये मानते हुए कि आपके इंश्योरेंस प्लान में घरेलू स्वास्थ्य देखभाल विकल्प होना फ़ायदेमंद हो सकता है, इस अतिरिक्त सुविधा से आपके प्रीमियम में ज्यादा इज़ाफ़ा नहीं होता है.

आखिर में, हमारा सुझाव है कि आप सब-लिमिट, को-पे, एक्सक्लूज़न और रिस्टोरेशन बेनेफ़िट जैसी शर्तों की जांच करें और साथ ही, सालाना मेडिकल टेस्ट, अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद के बेनेफ़िट्स और घर पर इलाज सुविधाओं जैसे बेनेफ़िट्स पर ग़ौर करें.

सोच-समझकर फ़ैसला लेने का मतलब है कि आप सिर्फ़ हैल्थ इंश्योरेंस नहीं खरीद रहे हैं, आप मुसीबत के वक़्त में मानसिक शांति के लिए निवेश कर रहे हैं.

ये भी पढ़िए- हेल्थ इंश्योरेंस ज़रूरी है!


दूसरी कैटेगरी