IPO अनालेसिस

IPO: GPT हेल्थकेयर

GPT हेल्थकेयर के इशू में निवेश करना है तो आपको ये बातें जाननी चाहिए

GPT Healthcare IPO: Is it worth investing in the issue?

GPT Healthcare IPO: हॉस्पिटल चेन के ओनर GPT हेल्थकेयर ने 22 फ़रवरी 2024 को अपना IPO लॉन्च कर दिया है. हम यहां कंपनी की क्षमताओं, कमज़ोरियों और ग्रोथ की संभावनाओं के बारे में बता रहे हैं, जिससे निवेशकों को सही फ़ैसला लेने में मदद मिलेगी.

एक नज़र में IPO

  • क्वालिटी: इसका तीन साल का औसत ROE और ROCE 22 फ़ीसदी रही है. इसने पिछले तीन फ़ाइनेंशियल ईयर में से हरेक में ऑपरेशन से पॉज़िटिव कैश फ़्लो दर्ज किया है.
  • ग्रोथ: पिछले तीन साल में इसका रेवेन्यू सालाना 22 फ़ीसदी बढ़ा. इसी अवधि में प्रॉफ़िट (आफ्टर टैक्स) सालाना 36 फ़ीसदी बढ़ा है.
  • वैल्युएशन: स्टॉक की वैल्यू क्रमशः 33.5 और 7.2 गुना के P/E और P/B पर आंकी गई है.
  • मोटे तौर पर: पूर्वी भारत के बाज़ार में कम पैठ के चलते, उसके लिए लंबे समय तक ग्रोथ की संभावनाएं हैं. हेल्थकेयर पर बढ़ते ख़र्च और हेल्थ इंश्योरेंस की पैठ से इसकी ग्रोथ को गति मिलनी चाहिए. कंपनी की रांची और रायपुर में दो नए अस्पताल खोलने की योजना है. ये भी कहा गया है कि वो चार नए शहरों में अपने ऑपरेशन को बढ़ाएंगे. हालांकि, ज़्यादा कैपिटल की ज़रूरतों और लिस्टिड और गैर-लिस्टिड दोनों तरह की कंपनियों की तरफ से भारी प्रतिस्पर्धा से आगे चलकर उसके लिए ख़तरा पैदा हो सकता है.

GPT हेल्थकेयर के बारे में

GPT हेल्थकेयर, के पास ILS ब्रांड के तहत कई ब्रांड्स हैं और ये उनका ऑपरेशन करती है. इसका फ़ोकस मुख्य रूप से सेकेंडरी (स्पेशलिस्ट ट्रीटमेंट) और टेरिटरी केयर (विशेषज्ञ मेडिकल केयर का ऊंचा स्तर) पर है.

ये भी पढ़िए- एक ऐसा फ़ंड जिससे IPO में निवेश सही लग सकता है

GPT हेल्थकेयर की ताकत

  • कम पहुंच वाले क्षेत्र में मौजूदगी: ये तुलनात्मक रूप से पूर्वी भारत का एक जाना-माना ब्रांड है, जो 561 बिस्तरों की कुल क्षमता वाले चार अस्पतालों को चलाता है. हालांकि, पूर्वी भारत का बाज़ार के दूसरे क्षेत्रों की तुलना में कम पहुंच वाला है. 2020 तक, पूर्वी भारत में प्रति 10,000 व्यक्तियों पर केवल पांच डॉक्टर और 13 नर्सें थीं.

GPT हेल्थकेयर की कमज़ोरियां

  • भारी प्रतिस्पर्धाः इसे ज़्यादा बिस्तर क्षमता वाले खिलाड़ियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है.
  • भारी पूंजी की ज़रूरतः अस्पताल से जुड़े बिज़नस में पूंजी की बेहद ज़्यादा ज़रूरत होती है.

IPO की डिटेल

IPO साइज़ (करोड़ ₹) 525
ऑफ़र फॉर सेल (करोड़ ₹) 485
नए इशू (करोड़ ₹) 40
प्राइस बैंड (₹) 177-186
सब्सक्रिप्शन डेट 22 फरवरी से 26 फरवरी 2024
इशू का उद्देश्य ऑफ़र फॉर सेल, लोन चुकाना

IPO के बाद

मार्केट कैप (करोड़ ₹) 1,526
नेट वर्थ (करोड़ ₹) 213
प्रमोटर होल्डिंग (%) 65.6
प्राइस/अर्निंग रेशियो (P/E) 33.5
प्राइस/बुक रेशियो (P/B) 7.2

फ़ाइनेंशियल हिस्ट्री

प्रमुख फ़ाइनेंशियल्स 2 साल का CAGR (%) TTM FY23 FY22 FY21
रेवेन्यू (करोड़ ₹) 21.9 393 361 337 243
EBIT (करोड़ ₹) 26.3 71 59 60 37
PAT (करोड़ ₹) 36.3 46 39 42 21
नेट वर्थ (करोड़ ₹) 173 165 158 134
कुल डेट 75 82 102 125
EBIT यानी इंटरेस्ट और टैक्स से पहले अर्निंग
PAT यानी प्रॉफ़िट आफ्टर टैक्स

प्रमुख रेशियो

प्रमुख रेशियो 3 साल का एवरेज (%) TTM FY23 FY22 FY21
ROE (%) 21.9 14.2 23.6 26.4 15.8
ROCE (%) 21.9 13.9 26.1 25 14.5
EBIT मार्जिन (%) 18 18 16.5 17.9 15
डेट टू इक्विटी 0.4 0.5 0.6 0.9
ROE यानी रिटर्न ऑन इक्विटी
ROCE यानी लगाई गई कैपिटल पर रिटर्न

रिस्क रिपोर्ट

कंपनी और बिज़नस

  • क्या पिछले 12 महीनों में GPT हेल्थकेयर की (अर्निंग्स बिफ़ोर टैक्स) ₹50 करोड़ से ज़्यादा है?
    हां. इसने सितंबर 2023 को समाप्त 12 महीनों में ₹68 करोड़ की (अर्निंग्स बिफ़ोर टैक्स) दर्ज की.
  • क्या GPT हेल्थकेयर अपना बिज़नस बढ़ा पाएगी?
    हां. कम पहुंच वाले पूर्वी भारतीय बाज़ार में उसके लिए ख़ासी ग्रोथ की संभावनाएं हैं. हेल्थकेयर पर बढ़ते ख़र्च और हेल्थ इंश्योरेंस की पैठ से ग्रोथ को और मदद मिलेगी.
  • क्या GPT हेल्थकेयर के पास क्लाइंट्स को जोड़े रखने के लिए जाने पहचाने ब्रांड हैं?
    इस पर लागू नहीं है. ग्राहकों को जोड़े रखने के उद्देश्य से ये अस्पतालों के लिए उपयोग किया जाने वाला कोई मेट्रिक नहीं है.
  • क्या कंपनी के पास सुरक्षा घेरा (credible moat) है?
    नहीं. इसे दूसरे सूचीबद्ध और गैर-सूचीबद्ध कंपनियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है.

प्रबंधन

  • क्या कंपनी के संस्थापकों में से किसी के पास अभी भी कंपनी में कम से कम 5 फ़ीसदी हिस्सेदारी है? या क्या प्रमोटर्स के पास कंपनी में 25 फ़ीसदी से ज़्यादा हिस्सेदारी है?
    हां. IPO के बाद प्रमोटर्स की हिस्सेदारी 65.6 फ़ीसदी होगी.
  • क्या शीर्ष तीन मैनेजर्स के पास GPT हेल्थकेयर में 15 वर्षों से अधिक की कुल लीडरशिप है?
    हां. प्रमुख प्रबंधकीय कर्मियों और वरिष्ठ प्रबंधन के पास 15 साल से ज़्यादा का अनुभव है.
  • क्या प्रबंधन भरोसेमंद है? क्या ये अपने खुलासों में ट्रांसपरेंट है, जो SEBI गाइडलाइंस के अनुरूप है?
    हां. इससे इतर सुझाव देने के लिए कोई जानकारी नहीं है. हालांकि, प्रमोटर ग्रुप के सदस्य ईश्वरी प्रसाद टांटिया को टांटिया कंस्ट्रक्शन लिमिटेड की परिसमापन (लिक्विडेशन) की कार्यवाही में जानबूझकर चूक करने वालों में सूचीबद्ध किया गया था. GPT हेल्थकेयर ने स्पष्ट किया है कि उनका कंपनी के साथ कोई ख़ास संबंध नहीं है.
  • क्या कंपनी की अकाउंटिंग पॉलिसी टिकाऊ है?
    हां. इससे इतर सुझाव देने के लिए कोई जानकारी नहीं है.
  • क्या कंपनी के किसी प्रमोटर ने अपने शेयर गिरवी नहीं रखे हैं?
    हां. कोई शेयर गिरवी नहीं रखा गया है.

ये भी पढ़िए- क्या IPO के लिए इस होड़ में फंसना चाहिए?

फ़ाइनेंशियल

  • क्या कंपनी ने इक्विटी पर वर्तमान और तीन साल का औसत रिटर्न 15 फ़ीसदी से ज़्यादा और लगाई गई कैपिटल पर 18 फ़़ीसदी से ज़्यादा रिटर्न कमाया?
    हां. इसका तीन साल का औसत ROE और ROCE 22 फ़ीसदी है. सितंबर 2023 को समाप्त 12 महीनों में इसका ROE और ROCE क्रमशः 27 और 31 फ़ीसदी रहा था.
  • क्या पिछले तीन साल के दौरान कंपनी का ऑपरेटिंग कैश फ़्लो पॉज़िटिव था?
    हां. इसने पिछले तीन वर्षों में प्रत्येक वर्ष ऑपरेशन से पॉज़िटिव कैश फ़्लो की सूचना दी.
  • क्या कंपनी का शुद्ध डेट टू इक्विटी रेशियो एक से कम है?
    हां. सितंबर 2023 तक इसका शुद्ध डेट टू इक्विटी रेशियो 0.4 गुना था.
  • क्या GPT हेल्थकेयर रोज़मर्रा के मामलों के लिए बड़ी कार्यशील पूंजी (वर्किंग कैपिटल) पर निर्भरता से मुक्त है?
    हां. भले ही ये कुछ दैनिक गतिविधियों के लिए छोटे अल्पकालिक ऋण (शॉर्ट-टर्म डेट) पर निर्भर करती है, लेकिन इसका कैश कन्वर्ज़न साइकल अच्छा है.
  • क्या कंपनी अगले तीन वर्षों में बाहरी फ़ंडिंग पर निर्भर हुए बिना अपना क़ारोबार चला सकती है?
    हां. इसका कैश फ़्लो अच्छी स्थिति में है. हालांकि, ध्यान रहे कि IPO की से मिले पैसे का उपयोग पूरी तरह से क़र्ज़ चुकाने में किया जाएगा.
  • क्या GPT हेल्थकेयर बड़ी आकस्मिक देनदारियों से मुक्त है?
    हां. कुल इक्विटी के प्रतिशत के रूप में आकस्मिक देनदारियां लगभग 1 फ़ीसदी के स्तर पर थीं.

वैल्युएशन

  • क्या स्टॉक अपनी एंटरप्राइज़ वैल्यू पर 8 फ़ीसदी से ज़्यादा की ऑपरेटिंग अर्निंग यील्ड प्रदान करता है?
    नहीं, स्टॉक अपनी एंटरप्राइज वैल्यू पर 4.4 फ़ीसदी ऑपरेटिंग अर्निंग्स यील्ड प्रदान करता है.
  • क्या स्टॉक का PE उसकी जैसी दूसरी कंपनियों के औसत से कम है?
    हां. स्टॉक की वैल्यू उसकी जैसी एकमात्र लिस्टेड कंपनी के 82 गुने के PE की तुलना में 33.5 गुने के PE पर है।
  • क्या स्टॉक की प्राइस टू बुक (PB) वैल्यू उसकी जैसी दूसरी कंपनियों के औसत से कम है?
    हां. स्टॉक की वैल्यू 7.2 गुने के PB पर है, जबकि उसकी जैसी एकमात्र लिस्टेड कंपनी का PB 13.4 गुना है.

डिस्क्लेमर: ये स्टॉक रेकमंडेशन नहीं है. निवेश करने से पहले उचित छानबीन कर लें.

धनक साप्ताहिक

बचत और निवेश करने वालों के लिए फ़्री न्यूज़लेटर


दूसरी कैटेगरी