IPO अनालेसिस

Rashi Peripherals IPO: क्या इसमें निवेश करना सही है?

कंपनी की ताकत, कमज़ोरियों और ग्रोथ की संभावनाओं के बारे में जानकर आपके लिए इसमें निवेश से जुड़ा फैसला लेना आसान हो सकता है

Rashi Peripherals IPO: Is it right to invest in it?

Rashi Peripherals IPO: राशि पेरिफेरल्स टेक प्रोडक्ट्स की प्रमुख डिस्ट्रीब्यूटर कंपनी है. 7 फरवरी 2024 को Rashi Peripherals का इनीशियल पब्लिक ऑफ़र लॉन्च हो गया है. यहां हम इस कंपनी की ताकत, कमज़ोरियों और ग्रोथ की संभावनाओं के बारे में बता रहे हैं. इन्हें जानकर आपके लिए इसमें निवेश से जुड़ा फैसला लेना आसान हो सकता है.

एक नज़र

क्वालिटी: इसका इक्विटी पर तीन साल का एवरेज रिटर्न ऑन इक्विटी (ROE) और लगाई गई कैपिटल पर रिटर्न (ROCE) क्रमशः 32 और 19 फ़ीसदी रहा है. हालांकि, पिछले तीन फ़ाइनेंशियल ईयर के दौरान ये कंपनी किसी साल में पाज़िटिव कैश फ़्लो जेनरेट करने में असफल रही है.

ग्रोथ: FY21-FY23 के बीच इसका सालाना रेवेन्यू 26 फ़ीसदी तक बढ़ा है. हालांकि, इसी दौरान PAT में प्रति वर्ष 3 फ़ीसदी गिरावट आई. साथ ही, इसका तीन साल का एवरेज नेट मार्जिन 2 फ़ीसदी रहा.

वैल्यूएशन: इसके स्टॉक की कीमत क्रमशः 15.9 और 1.5 गुने के P/E और P/B पर होगी, जबकि इसकी जैसी दूसरी कंपनियों (रेडिंगटन) का एवरेज 12.9 और 2.3 गुना है.

मोटे तौर पर: पर्सनल कंप्यूटर और दूसरे टेक्निकल पेरिफेरल्स की बढ़ती मांग को देखते हुए इसकी ग्रोथ को बढ़ावा मिलना चाहिए. हालांकि, भारी कॉम्पिटीशन और बड़े ग्राहकों के टूटने का रिस्क है. इसकी, ऊंची आकस्मिक देनदारियां इसके लिए चिंता की बात है.

Rashi Peripherals कंपनी के बारे में

1989 में स्थापित, Rashi Peripherals दुनिया के कई प्रमुख ब्रांड्स के लिए भारत में CPU, स्टोरेज डिवाइस, फ़िटनेस ट्रैकर जैसे टेक प्रोडक्टस डिस्ट्रीब्यूट करती है. ये भारत में लगभग 680 स्थानों को कवर करती है.

Rashi Peripherals की ख़ासियत

ऊंचा मार्केट शेयर: भारत में GPU डिस्ट्रीब्यूशन में इसका मार्केट शेयर 47 फ़ीसदी है. वहीं, CPU डिस्ट्रीब्यूशन में 45 प्रतिशत मार्केट शेयर है.

ये भी पढ़िए- SIP: निवेश एक बार में करें या क़िश्तों में?

ग्राहकों के साथ लंबी भागीदारी: 30 सितंबर 2023 को समाप्त छह महीनों में, इसका रेवेन्यू 78 फ़ीसदी रहा. इसकी मुख्य वजह उसके 10 साल और उससे ज़्यादा समय से जुड़े ग्राहक रहे. गौरतलब है कि Asus 25 साल से ज़्यादा समय से इस कंपनी के साथ जुड़ी है.

Rashi Peripherals की कमज़ोरियां

इसका बिज़नेस, क्लाइंट्स के काफ़ी करीब से जुड़ा हुआ हैः उदाहरण के तौर पर समझें तो, इसके किसी भी CPU बनाने वाले क्लाइंट की स्थिति मार्केट में कमज़ोर होने पर CPU की डिमांड पर असर पड़ेगा.

ग्राहकों के साथ कंपनी का जुड़ावः FY21-FY23 के दौरान अलग होने वाले ग्राहकों की संख्या में सालाना 23% तक बढ़ी है.

टेक डिस्ट्रीब्यूशन सेगमेंट में काफ़ी ज़्यादा कॉम्पिटीशन है .

Rashi Peripherals IPO की डिटेल

कुल IPO साइज़ (करोड़ ₹) 600
ऑफ़र फॉर सेल (करोड़ ₹) 0
नए इशू (करोड़ ₹) 600
प्राइस बैंड (₹) 291 - 311
सब्स्क्रिप्शन डेट 7-9 फरवरी 2024
उद्देश्य कर्ज़ का भुगतान , वर्किंग कैपिटल की ज़रूरत और कॉर्पोरेट की और दूसरी ज़रूरते

Rashi Peripherals के IPO के बाद

मार्केट कैप (करोड़ ₹) 2049
नेट वर्थ (करोड़ ₹) 1373
प्रमोटर होल्डिंग (%) 63.4
प्राइस/ अर्निंग रेशियो (P/E) 15.9
प्राइस/ बुक रेशियो (P/B) 1.5

Rashi Peripherals की फ़ाइनेंशियल हिस्ट्री

मुख्य फ़ाइनेंशियल्स 2 साल की ग्रोथ (% प्रति वर्ष) TTM सितंबर 2023 तक FY23 FY22 FY21
रेवेन्यू (करोड़ ₹) 26.3 9899 9454 9313 5925
ऑपरेटिंग प्रॉफ़िट (करोड़ ₹) 8.4 239 236 285 201
कंसोलिडेटेड PAT (करोड़ ₹) -2.7 129 123 182 130
नेट वर्थ (करोड़ ₹) 773 700 575 394
कुल कर्ज़ 1410 1082 886 489
PAT - टैक्स के बाद मिलने वाला प्रॉफ़िट

Rashi Peripherals के अहम रेशियो

रेशियो 3 साल का औसत (%) TTM सितंबर 2023 तक FY23 FY22 FY21
ROE (%) 32.2 18 19.3 37.6 39.7
ROCE (%) 19.3 13.1 14.2 20.1 23.5
EBIT मार्जिन (%) 3 2.4 2.5 3.1 3.4
डेट-टू-इक्विटी 1.8 1.3 2 2.2
ROCE यानी लगाई गई कैपिटल पर रिटर्न
ROE यानी इक्विटी पर रिटर्न
EBIT ब्याज और टैक्स से पहले की कमाई

रिस्क रिपोर्ट

कंपनी और बिज़नेस

क्या पिछले 12 महीनों में Rashi Peripherals की टैक्स के पहले की कमाई ₹50 करोड़ से ज़्यादा है?
हां. 12 महीने में इसकी टैक्स के पहले की कमाई ₹178 करोड़ है.

क्या Rashi Peripherals अपना बिज़नस बढ़ा पाएगी?
बिल्कुल. गेमिंग कंप्यूटर, स्टोरेज डिवाइस आदि जैसे टेक्निकल प्रोडक्ट्स की बढ़ती मांग के चलते से इसे बढ़ने से इसे मदद मिल सकती है.

क्या Rashi Peripherals ग्राहकों को अपनी ओर खींचने के लिए भरोसेमंद ब्रांड हैं?
हां बिल्कुल. 30 सितंबर 2023 को समाप्त छह महीनों में, 78 फ़ीसदी रेवेन्यू, 10 साल से ज़्यादा समय से जुड़े ब्रांड्स से हासिल किया है.

क्या कंपनी के पास भरोसेमंद सुरक्षा घेरा (credible moat) है?
नहीं. असल में, ये ज़्यादा कॉम्पिटीशन वाले मार्केट सेगमेंट में काम करता है.

ये भी पढ़िए- ULIP पर मेच्योरिटी बेनेफ़िट किसे मिलता है?

मैनेजमेंट

क्या कंपनी के फ़ाउंडर्स में से किसी के पास अभी भी कंपनी में कम से कम 5 फ़ीसदी की हिस्सेदारी है? या क्या प्रमोटर्स के पास कंपनी में 25 फ़ीसदी से ज़्यादा हिस्सेदारी है?
हां. IPO के बाद प्रमोटरों की हिस्सेदारी 63.4 फ़ीसदी होगी.

क्या Rashi Peripherals के टॉप 3 मैनेजर 15 साल से ज़्यादा समय से लीडरशिप रोल में हैं?
हां. प्रमोटर, चेयरमैन और होलटाइम डायरेक्टर कृष्ण कुमार चौधरी 1997 से कंपनी से जुड़े हुए हैं.

क्या मैनेजमेंट भरोसेमंद है? क्या ये अपने ख़ुलासों को लेकर ट्रांसपरेंट हैं, जो SEBI के दिशानिर्देशों के मुताबिक़ हों?
हां. इससे इतर सुझाव देने के लिए कोई जानकारी नहीं है.

क्या कंपनी की अकाउंटिंग पॉलिसी टिकाऊ है?
हां. इसके विपरीत सुझाव देने के लिए कोई जानकारी नहीं है.

क्या कंपनी के प्रमोटर्स ने कोई शेयर गिरवी नहीं रखा है?
हां. कोई शेयर गिरवी नहीं रखा गया है.

फ़ाइनेंशियल

क्या कंपनी ने इक्विटी पर वर्तमान और तीन साल का एवरेज रिटर्न 15 फ़ीसदी से ज़्यादा और लगाई गई पूंजी पर 18 फ़ीसदी से ज़्यादा का रिटर्न अर्जित किया है?
नहीं. इसका तीन साल का एवरेज ROE और ROCE क्रमशः 32 और 19 फ़ीसदी है. इसका TTM ROE और ROCE क्रमशः 18 और 13 फ़ीसदी है.

क्या पिछले तीन साल के दौरान कंपनी का ऑपरेशन से कैश फ़्लो पॉजिटिव था?
नहीं. पिछले तीन फ़ाइनेंशियल ईयर दौरान इसने किसी भी साल में पाज़िटिव कैश फ़्लो जेनरेट नहीं किया है.

क्या कंपनी का नेट डेट-टू-इक्विटी रेशियो एक से कम है?
नहीं. 30 सितंबर 2023 तक इसका नेट डेट-टू-इक्विटी रेशियो 1.8 गुना था.

क्या Rashi Peripherals रोज़मर्रा के मामलों के लिए भारी वर्किंग कैपिटल पर निर्भरता से मुक्त है?
नहीं. डिस्ट्रीब्यूशन बिज़नेस में पर्याप्त इन्वेंट्री बनाए रखने के लिए ज़्यादा मात्रा में कैपिटल की ज़रूरत होती है. इसके अलावा, ग्राहकों को भुगतान करने से पहले उसे अपने क्लाइंट्स से सामान खरीदना होता है. ख़ास तौर से, नेट इनकम का लगभग 37 फ़ीसदी वर्किंग कैपिटल की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए उपयोग किया जाएगा.

क्या कंपनी अगले तीन साल में बाहरी फ़ंडिंग पर निर्भर हुए बिना अपना बिज़नस चला सकती है?
नहीं, पिछले तीन फ़ाइनेंशियल ईयर दौरान इसने किसी साल में भी पाज़िटिव कैश फ़्लो जेनरेट नहीं किया है. इसके अलावा, इसके पास कैश कम है (30 सितंबर 2023 तक इसके नेट एसेट का केवल 0.5 फ़ीसदी है).

क्या Rashi Peripherals सार्थक आकस्मिक देनदारियों (meaningful contingent liabilities) से मुक्त है?
नहीं. 30 सितंबर, 2023 तक इक्विटी के प्रतिशत के रूप में इसकी आकस्मिक देनदारियां 76.7 फ़ीसदी तक थीं.

वैल्यूएशन

क्या स्टॉक अपनी एंटरप्राइज़ वैल्यू पर 8 फ़ीसदी से ज़्यादा की ऑपरेटिंग इनकम यील्ड प्रदान करता है?
नहीं, स्टॉक अपने एंटरप्राइज़ वैल्यू पर 6.9 फ़ीसदी तक ऑपरेटिंग इनकम यील्ड प्रदान करेगा.

क्या स्टॉक का प्राइस टू अर्निंग रेशियो उसके जैसे दूसरे स्टॉक के मीडियन लेवल से कम है?
नहीं, स्टॉक का प्राइस टू अर्निंग रेशियो 15.9 गुना है, जबकि इसका मीडियन लेवल 12.9 गुना है.

क्या स्टॉक की प्राइस-टू-बुक वैल्यू उसकी जैसी दूसरी कंपनियों के एवरेज लेवल से कम है?
हाँ, स्टॉक की वैल्यू उसकी जैसी दूसरी कंपनियों के 2.3 गुने के स्तर की तुलना में 1.5 गुना के प्राइस-टू-बुक रेशियो पर है.

डिस्क्लेमर: ये स्टॉक रेकमेंडेशन नहीं है. निवेश करने से पहले ठीक से छानबीन ज़रूर करें.

ये भी पढ़िए- आपको वैल्यू रिसर्च स्टॉक रेटिंग क्यों चुननी चाहिए


दूसरी कैटेगरी