धनक से पूछें

नई टैक्स रिज़ीम के तहत 'NPS' अब भी टैक्स के फ़ायदे देता है

अगर इंप्लॉयर भी NPS में योगदान दे, तो आप नई टैक्स रिज़ीम में टैक्स में भी छूट पा सकते हैं.

नई टैक्स रिज़ीम के तहत 'NPS' अब भी टैक्स के फ़ायदे देता है

back back back
1:49

मेरा मानना है कि ये एक तरीक़ा है जो टैक्स लायक़ आमदनी से ₹50,000 तक का एडिशनल डिडक्शन अमाउन्ट क्लेम करने की इजाज़त देता है. ये खासतौर पर NPS टियर-I में निवेश करने पर उपलब्ध है. वैसे क्या नई टैक्स रिज़ीम अपनाने वालों को इसका फ़ायदा मिल सकता है? - सब्सक्राइबर

अगर आप नई टैक्स रिज़ीम (new tax regime) के तहत आते हैं और NPS टियर-1 में निवेश कर रहे हैं, तो आप ₹50,000 तक की अतिरिक्त छूट का फ़ायदा नहीं उठा सकते हैं.

सिर्फ़ वही लोग टैक्स में छूट के लिए अप्लाई कर सकते हैं जिन्होंने पुरानी टैक्स रिज़ीम (old tax regime) को चुना है.

हालांकि, नई टैक्स रिज़ीम में लोगों के लिए अभी भी एक उम्मीद है. क्योंकि, अगर उनका इंप्लॉयर भी उनके NPS में योगदान दे रहा है, तो कर्मचारी अतिरिक्त छूट की राशि (एडिशनल डिडक्शन अमाउन्ट) क्लेम कर सकते हैं.

ये भी पढ़िए- NPS आपका ज़्यादा टैक्स बचा सकता है

लेकिन ध्यान रहे कि इंप्लॉयर का योगदान उसके मूल वेतन (basic salary) और महंगाई भत्ते (dearness allowance) का केवल 10 प्रतिशत तक ही टैक्स फ़्री है. ये दो सेगमेंट हैं, जो आपके CTC का हिस्सा बनते हैं.

लेकिन, अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं तो इसमे टैक्स छूट की सीमा 14 फ़ीसदी है.

NPS की टैक्स छूट

पुरानी vs नई टैक्स रिज़ीम के तहत फ़ायदे

इनकम टैक्स की धारा किस तरह निवेश किया है अधिकतम टैक्स छूट की लिमिट (₹) इसके तहत उपलब्ध है
80C ख़ुद से, सैलरी डिडक्शन के साथ (NPS के लिए कर्मचारी का योगदान) 1.5 लाख पुरानी टैक्स रिज़ीम
80CCD (1B) सैलरी डिडक्शन के ज़रिए ख़ुद से कर्मचारी का योगदान भी एक हिस्सा हो सकता है 50000 पुरानी टैक्स रिज़ीम
80CCD (2) सैलरी डिडक्शन (कर्मचारी का योगदान) मूल वेतन और महंगाई भत्ता का 10% और अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं तो 14% दोनों पुरानी और नई टैक्स रिज़ीम

क्या आपके मन में कोई और सवाल है? हमसे पूछिए


दूसरी कैटेगरी