धनक से पूछें

इंंश्योरेंस में एंडोमेंट और राइडर्स का क्या मतलब है

आकाशवाणी के लोकप्रिय कार्यक्रम, मार्केट मंत्र का एक संपादित अंश

इंंश्योरेंस में एंडोमेंट और राइडर्स का क्या मतलब है

वैल्यू रिसर्च के चेयरमैन धीरेंद्र कुमार दो दशकों से आकाशवाणी यानी ऑल इंडिया रेडियो के लोकप्रिय फाइनेंस प्रोग्राम ‘मार्केट मंत्र’ से जुड़े हुए हैं. ये एक साप्ताहिक कार्यक्रम है जो श्रोताओं को पर्सनल फ़ाइनांस, बिज़नस न्यूज़ और इकनॉमिक डेवलपमेंट पर जानकारी और सलाह देता है. ऐसे ही एक शो के दौरान एक श्रोता ने नीचे दिया सवाल पूछा:

बीमा सेक्टर में, हम अक्सर दो शब्द सुनते हैं: एडोमेंट (endowment) और राइडर्स (riders) क्या हैं?

इसका जवाब हाल ही में एक रविवार को रेडियो पर दिया गया था जिसे हम आपके लिए लाए हैं:

तो आइए सबसे पहले एडोमेंट प्लान्स (endowment plans) पर नज़र डालते हैं.

जीवन बीमा पॉलिसी तीन तरह की होती हैं:

संक्षेप में, एक एडोमेंट स्कीम जीवन बीमा कवरेज (life insurance coverage) को बचत के साथ जोड़ती है.

बेहतर समझ के लिए, आइए आपको बताते हैं कि ये कैसे काम करता है.

  • एंडोमेंट प्लान ख़रीदने पर, आपको आमतौर पर हर महीने, तीन महीने या सालाना एक प्रीमियम का भुगतान करना होता है. आप पॉलिसी टर्म तक प्रीमियम का भुगतान करते हैं.
    उदाहरण के लिए, अगर पॉलिसी का टर्म 20 साल है, तो आप इस टर्म के दौरान प्रीमियम का भुगतान करते हैं.
  • अगर आप इस टर्म के पूरा होने तक जीवित नहीं रह पाते हैं, तो आपके परिवार को डेथ बेनेफ़िट मिलेगा. डेथ बेनेफ़िट आमतौर पर स्कीम ख़रीदते समय इन्श्योरेंस कंपनी के द्वारा आश्वस्त किए गए कवरेज अमाउंट और इकट्ठा हुआ प्रीमियम अमाउंट होता है.
  • अगर आप पॉलिसी टर्म के दौरान जीवित रहते हैं, तो आपको इन्श्योरेंस कंपनी से एक तय अमाउंट मिलता है, जिसे मेच्योरिटी बेनेफ़िट भी कहा जाता है. असल में, ये राशि इकट्ठा किया गया प्रीमियम होती है जो आपने बीमा कंपनी ने निवेश किया था.

ये भी पढ़िए- Best SIP for Mutual Funds: 4 स्टेप में बेस्ट फ़ंड चुनें

आपको क्या पता होना चाहिए
ऊपरी तौर पर से देखें, तो एडोमेंट स्कीम आकर्षक लगती हैं. वैसे भी, बड़ा तय शुदा या फ़िक्स्ड अमाउंट पाना किसे अच्छा नहीं लगता?

लेकिन गहराई से समझेंगे, तो आपको पता चलेगा कि मेच्योरिटी बेनेफ़िट देश की महंगाई दर से भी धीमी गति से बढ़ता है! असल में, अगर आप इसकी तुलना में पोस्ट ऑफ़िस में निवेश करते हैं तो आपको ज़्यादा रिटर्न मिलेगा.

हमारी राय
मेरी सामान्य सलाह है कि निवेश को कभी भी बीमा के साथ न मिलाएं और एडोमेंट प्लान (endowment plan) इसका एक अच्छा उदाहरण है.

इसके बजाय, अगर आप जीवन बीमा ख़रीदना चाह रहे हैं, तो एक अच्छा टर्म प्लान (term plan) चुनें. ये किफ़ायती हैं और इनका प्रीमियम भी कम होता है.

और अगर आप निवेश की तलाश में हैं, तो एक अच्छा म्यूचुअल फंड, फ़िक्स्ड डिपॉजिट, शेयर या बॉन्ड चुनें.

राइडर्स क्या हैं?
आइए, अब समझते हैं कि राइडर्स क्या हैं.

हरेक बीमा पॉलिसी - चाहे वो लाइफ़ हो या हेल्थ पॉलिसी- एक राइडर के साथ आती है, जैसे कि गंभीर बीमारी से जुड़े राइडर, विकलांगता राइडर, दुर्घटना राइडर इत्यादि.

मान लीजिए कि आप गंभीर बीमारी राइडर (critical illness rider) के साथ एक हेल्थ पॉलिसी ख़रीदते हैं. बाद में, अगर आपको गंभीर बीमारी का पता चलता है, तो बीमा कंपनी आपके मेडिकल बिलों का भुगतान करेगी.

अगर आप किसी गंभीर बीमारी के राइडर के साथ लाइफ़ इन्श्योरेंस पॉलिसी ख़रीदते हैं, तो आपको पॉलिसी टर्म तक ज़िंदा रहने पर हाई मेच्योरिटी बेनेफ़िट मिलेगा.

ये भी पढ़िए- म्यूचुअल फ़ंड में निवेश कैसे करें? निवेश शुरू करने वालों के लिए इन्वेस्टमेंट गाइड

क्या आपके मन में कोई और सवाल है? हमसे पूछिए

धनक साप्ताहिक

बचत और निवेश करने वालों के लिए फ़्री न्यूज़लेटर


दूसरी कैटेगरी