वर्ड्स वर्थ

जोएल ग्रीनब्लाट के साथ वैल्यू इन्वेस्टिंग के अहम सबक

आइए जानते हैं कि वैल्यू इन्वेस्टिंग का एक बड़ा खिलाड़ी मार्केट को कैसे देखता है

जोएल ग्रीनब्लाट के साथ वैल्यू इन्वेस्टिंग के अहम सबक

Joel Greenblatt: जोएल ग्रीनब्लाट दुनिया के सबसे सम्मानित निवेशकों में से एक हैं. वह अपनी किताबों के लिए जाने जाते हैं, जिनमें ‘यू कैन बी ए स्टॉक मार्केट जीनियस’ (You Can Be a Stock Market Genius) भी शामिल है. उनके हेज फ़ंड गोथम कैपिटल (hedge fund Gotham Capital ) ने अपनी शुरुआत के बाद 10 साल के दौरान हर साल 50 फ़ीसदी रिटर्न दिया. इसके अलावा वह कोलंबिया विश्वविद्यालय में वैल्यू इन्वेस्टिंग (value investing) के प्रोफेसर भी रहे.

हाल ही में वो अपनी यात्रा और अनुभव पर चर्चा करने के लिए हेज फ़ंड एसोसिएशन (अमेरिका में) के साथ बैठे. आप पूरा इंटरव्यू यहां देख सकते हैं. पेश हैं इस इंटरव्यू के मुख्य अंश.

अहम पल
Joel Greenblatt Lessons: दक्ष बाजार की हाइपोथिसिस (efficient market hypothesis) के बारे में समझते हुए ग्रीनब्लाट वैल्यू इन्वेस्टिंग के बारे में उत्सुक हो गए.

हाइपोथिसिस के अनुसार, सार्वजनिक रूप से उपलब्ध सभी जानकारियों की क़ीमत पहले से तय है. दूसरे शब्दों में, वैल्यू डिस्कवरी एक फिजूल का काम है. ग्रीनब्लाट को लगा कि ये सच नहीं हो सकता, और इसके जवाबों की तलाश में उन्होंने बेन ग्राहम के सबकों की खोज की.

मिस्टर मार्केट (एक काल्पनिक निवेशक) और उसके शॉर्ट-टर्म में बेहद भावुक के बारे में ग्राहम की सीख ग्रीनब्लाट के लिए ख़ासी मायने रखती है. इसके बाद, उन्होंने वैल्यू इन्वेस्टिं पर ग्राहम के सबकों पर अमल करना शुरू कर दिया, जो बाद में उन्हें ग्राहम के छात्र वॉरेन बफ़े (Warren Buffett) तक ले गया.

ये भी पढ़िए- पीटर लिंच जैसे ज़बर्दस्त इन्वेस्टर कैसे बनेंगे आप?

वैल्यू इन्वेस्टिंग के सिद्धांत
ग्रीनब्लाट का मानना है कि वैल्यू इन्वेस्टिंग का मुख्य पहलू किसी कंपनी को पूरी तरह देखना है, न कि बस एक मार्केट के एक अंग के रूप में. उन्होंने कहा, “स्टॉक कोई कागज का टुकड़ा नहीं है जो इधर-उधर उड़ता रहता है. और क्या हो रहा है ये जानने के लिए मैं अच्छी हिस्सेदारी अपने पास रखता हूं. ये मूल रूप से एक बिज़नस का ओनरशिप शेयर है, और मैं वैल्यू हासिल करने की कोशिश कर रहा हूं.

भले ही, मोमेंटम इन्वेस्टिंग आकर्षक लग सकती है, लेकिन उन्होंने कहा, “संभावना है कि मोमेंटम स्ट्रैटजी में भारी भीड़ वाली है. हो सकता है कि ये पहले की तरह काम न करे. आपको इस सवाल का जवाब नहीं मिलेगा कि आपको इंतजार करना चाहिए या नहीं.

उनकी सफलता का राज
पैसा न खोने की कोशिश ग्रीनब्लाट के फ़ंड का प्राथमिक उद्देश्य था. उन्होंने कहा, “हमने उन कंपनियों में बड़ी पोजिशन नहीं ली, जहां हम सोचते थे कि हम आपके पैसे को 10 गुना या 20 गुना बढ़ा देंगे. इसके बजाय, हमने वहां बड़ी पोजिशन ली जहां हमें लगता था कि हमें पैसे का नुकसान नहीं होगा.”

इसके अलावा, उन्होंने पोर्टफ़ोलियो एलोकेशन की अहमियत को दोहराया. चार्ली मंगर (Charlie Munger) का हवाला देते हुए, उन्होंने कहा, “अगर आपके पास अब तक की सबसे बेहतरीन पोजिशन है और आपने अपना दो फ़ीसदी पैसा उसमें लगाया है, और यह चौगुना या कुछ और बढ़ा दिया है, तो आपने अच्छा निवेश नहीं बल्कि बेवकूफी भरा निवेश किया है.”

मैनेजमेंट क्वालिटी पर
किसी कंपनी का मैनेजमेंट किसी भी बिज़नस को बना सकता है या बिगाड़ सकता है. ग्रीनब्लाट एक सिंपल गाइडेंस देते हैं. वो कहते हैं, “अगर वे पूंजी के अच्छे एलोकेटर रहे हैं, तो हम मान सकते हैं कि वे ऐसा आगे भी करते रहेंगे. अगर वे बुरे एलोकेटर हैं, तो आशंका है कि ऐसे जारी रहेगा.”

वो ये भी मानते हैं कि मैनेजमेंट का कम्पन्सेशन स्ट्रक्चर भी उनके कामकाज को प्रभावित करता है. अगर मैनेजमेंट को वेतन और अन्य बोनस की तुलना में शेयरों के रूप में ज़्यादा पैसा मिलता है, तो उनकी गतिविधियां शेयरहोल्डर्स के हित में होंगी.

आपके काम की बात
आपके निवेश की फ़िलॉसफ़ी से इतर, ग्रीनब्लाट के सबक आपको मार्केट को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेंगे. हम ग्रीनब्लाट के इक्विटी निवेश को मार्केट के किसी इंस्ट्रुमेंट में निवेश करने के तौर पर नहीं, बल्कि एक बिज़नस ख़रीदने के तौर पर देखने की फ़िलॉसफ़ी में पूरा भरोसा करते हैं. जैसा कि ग्रीनब्लाट कहते हैं, सब्र की कीमत, वैलुएशन के महत्व को समझना और ये जानना कि शॉर्ट टर्म में मार्केट का कोई मतलब नहीं होगा, निवेश की सफलता के लिए सबसे ज़रूरी है.

ये भी पढ़िए- म्यूचुअल फ़ंड में निवेश कैसे करें? निवेश शुरू करने वालों के लिए इन्वेस्टमेंट गाइड

धनक साप्ताहिक

बचत और निवेश करने वालों के लिए फ़्री न्यूज़लेटर


दूसरी कैटेगरी