स्टॉक वायर

ITC ऑल टाइम हाई पर: यहां जानिए इसके कारण

क्यों ITC के शेयरों में इतना बड़ा उछाल आया है जानने के लिए आगे पढ़िए

ITC ऑल टाइम हाई पर: यहां जानिए इसके कारण

ऐसा लगता है कि ITC ने आख़िर अपने ऊपर लगे एक ही जगह पर अटके रहने का टैग हटाने का फैसला कर लिया है. कंपनी ने 2022 में नया ऑल टाइम हाई छूआ था और BSE सेंसेक्स से बेहतर प्रदर्शन किया. ये 2022 में BSE FMCG इंडेक्स से भी आगे निकल गई.

और बीते साल की तरह फिर से ITC ने 3 जुलाई, 2023 को एक नया ऑल टाइम हाई लेवल छू लिया. और, NSE पर ₹465.95 के अपने नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया. हालांकि, 3 जुलाई, 2023 तक, बीते एक साल के दौरान कंपनी ने अपने निवेशकों को लगभग 60 फ़ीसदी का भारी भरकम रिटर्न दिया है.

तो, आइए वर्षों के ठहराव के बाद इस उछाल की वजहों पर ग़ौर करते हैं.

FY 23 में मजबूत प्रदर्शन
फ़ाइनेंशियल ईयर 2023 में, कंपनी ने हर सेगमेंट ने पिछले पांच सालों का सबसे ज़्यादा रेवेन्यू और ऑपरेटिव प्रॉफ़िट दर्ज किया.

सेगमेंट्स का अलग-अलग रेवेन्यू

FY23 में हर सेगमेंट दो अंकों में है

सेगमेंट (अमाउंट ₹ करोड़ में) FY22 FY23 साल-दर-साल ग्रोथ (%)
सिगरेट 26158 31267 19.5
FMCG 16023 19153 19.5
होटल 1348 2689 99.5
एग्री 16466 18443 12
पेपरबोर्ड्स और पैकेजिंग 7642 9081 18.8
अन्य* 2799 3263 16.6
अन्य में IT सर्विसेज, ब्रांडेड रेजिडेंस आदि शामिल हैं

इन वजहों से कंपनी की ग्रोथ को रफ़्तार मिली:
टैक्स स्टैबिलिटी, प्रोडक्ट इनोवेशन और कंपनी की गैर क़ानूनी ट्रेड पर रोकथाम की कोशिशों से सिगरेट सेगमेंट को बढ़ावा मिला.
मल्टी-चैनल डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम के ज़रिये डिस्ट्रीब्यूशन पहुंच में सुधार के साथ-साथ डिमांड बढ़ने से FMCG सेगमेंट को फ़ायदा हुआ.
ज़्यादा शादियों और छुट्टियों के चलते बढ़े ट्रैवल के कारण होटल सेगमेंट से रेवेन्यू दोगुना से ज़्यादा हुआ.

ये भी पढ़िए- Best Mutual Fund: 5 साल के 5 सुपरहिट फ़ंड!

डिमर्जर की चर्चा
निवेशकों का हमेशा से मानना रहा है कि होटल सेगमेंट के चलते अक्सर कंपनी के पूरे प्रदर्शन पर दबाव बढ़ा है. एक इंटरव्यू में ITC के चेयरमैन और एमडी संजीव पुरी ने कहा कि कंपनी अपने होटल बिज़नस को बाक़ी से अलग करने के बारे में सोच रही है. इससे बाजार की उम्मीदें बढ़ गईं और इसके शेयर में दमदार रैली देखने को मिली.

डिविडेंड से भरी झोली
भले ही कंपनी नियमित रूप से डिविडेंड देने के लिए जानी जाती है लेकिन फ़ाइनेंशियल ईयर 23 में उसने जितना डिविडेंड दिया वो उसके निवेशकों के लिए एक सपने के जैसा था. ITC ने प्रति शेयर ₹15.5 का डिविडेंड दिया, जो पिछले साल के डिविडेंड से 35 फ़ीसदी ज़्यादा है.

बहरहाल, ये तो आने वाला समय ही बताएगा कि ITC का स्टॉक अपनी इस तेज़ी को बरक़रार रख पाएगा या नहीं लेकिन मौजूदा दौर में इसका प्रदर्शन इसके लिए आने वाले अच्छे समय की ओर संकेत कर रहा है.

ये भी पढ़िए- Regular income के लिए इस तरह फ़ंड चुनें


दूसरी कैटेगरी