इंटरव्यू

DSP Dynamic Asset Allocation Fund: ख़राब प्रदर्शन के कारण क्या रहे?

रोहित सिंघानिया का इंटरव्यू इस फ़ंड में निवेश की संभावनाओं को समझने में आपकी मदद करेगा

फ़ाइनांस में MBA के साथ कॉमर्स ग्रेजुएट रोहित सिंघानिया का रुझान जीवन के शुरुआती दिनों में ही फ़ाइनांस मार्केट की ओर हो गया था. 1993-94 के बाद जब मार्केट खुले, तो उन्होंने निवेश बैंकिंग और शेयर बाज़ार में उम्मीद के लायक़ मौक़े देखे. HDFC सिक्योरिटीज़, IL&FS और क्वांटम सिक्योरिटीज़ जैसी कई मशहूर संस्थाओं के साथ रिसर्च विश्लेषक के तौर पर अपना करियर शुरू करने के बाद, उन्होंने सीमेंट, मेटल और ऑटो जैसे सेक्टरों में काम किया.

अब,DSP म्यूचुअल फ़ंड में इक्विटी के सह-प्रमुख के तौर पर , सिंघानिया हाइब्रिड, इक्विटी और थीमैटिक कैटेगरी में पांच स्कीमों में ₹35,837 करोड़ की एसेट का मैनेजमेंट करते हैं.

इस इंटरव्यू में, सिंघानिया अपने निवेश फ़िलॉसफ़ी, स्टॉक चुनने की रणनीतियों और अपने इक्विटी फ़ंड के परफ़ॉर्मेंस को बेहतर बनाने की योजनाओं साझा कर रहे हैं. यहां हमारी बातचीत का संपादित अंश दिया गया है.

MBA पूरा करने के बाद, आपने HDFC सिक्योरिटीज़, IL&FS और क्वांटम सिक्योरिटीज़ सहित कई ऑर्गेनाइज़ेशन के साथ एनेलिस्ट के तौर पर काम किया. सेल साइड पर इन तजुर्बों से आपने क्या सीखा?
जब मैंने अपना करियर शुरू किया, तो मैं बहुत कच्चा था. मेरी पहली नौकरी में सीमेंट, धातु और ऑटो जैसे सेक्टरों को कवर करना शामिल था. मैं ख़ुशकिस्मत था कि मेरे पास सीनियर मेंबर का एक अच्छा ग्रुप था, जिन्होंने मुझे हर सेक्टर को समझने में मदद की. एक ख़ास सीख ये थी कि हर सेक्टर की गतिशीलता अलग-अलग होती है. अगर आप किसी एक सेक्टर के एनेलिस्ट हैं, तब भी आपको हर सेक्टर, हर बिज़नस के सुरक्षा घेरे (moat) और बिज़नस को चलाने वाले फैक्टरों की पूरी समझ होनी चाहिए.

सेल साइड पर, काम कुछ हद तक आसान है क्योंकि आपको ख़ासतौर से ख़रीद या बिक्री की सिफ़ारिशें देने की ज़रूरत होती है. इसे सीखने में अलग-अलग सेक्टरों को गहराई से समझना, आज़ाद रहकर काम करना, मॉडल विकसित करना और फ़ैसले लेना शामिल था. आज, हमारी टीम में शामिल होने वाले नए एनेलिस्ट को सभी ज़रूरी मदद और गाइडेंस मिलेगी. बतौर एनेलिस्ट, आपको रिपोर्ट के पब्लिकेशन तक शुरुआत से सभी काम करने होंगे. ये ख़ास तजुर्बा सिर्फ़ सेल-साइड एनेलिस्ट होने से ही आता है.

क्या आप अपनी इन्वेस्टमेेंट फ़िलॉसफ़ी के बारे में कुछ बता सकते हैं?
निवेश की दुनिया में, कुछ भी अच्छा या बुरा नहीं होता. अगर कोई स्टॉक अच्छा है, तो इसके पीछे कुछ फ़ैक्टर हो सकते हैं, जैसे मज़बूत बैलेंस शीट, अच्छा रिटर्न रेशियो और मज़बूत कैश फ़्लो. हालांकि, जब मैं कोई कंपनी खरीदता हूं, तो मैं इसे भविष्य के लिए ख़रीदता हूं. इसलिए, मुझे ये एनेलाइज़ करने की ज़रुरत है कि क्या कंपनी अच्छा प्रदर्शन करना जारी रखेगी. अगर कोई कंपनी खराब भी है, तो मुझे ये समझने की ज़रूरत है कि ऐसा क्यों है - चाहे वो खराब कैश-फ़्लो, इक्विटी पर कम रिटर्न (ROE), साइक्लिकल चुनौतियों या बैलेंस शीट के मुद्दों की वजह से हो. मेरे लिए, शुरुआती प्वाइंट बहुत बाइनरी नहीं है; मैं हर चीज़ का अनालेसिस करने के लिए तैयार हूं, चाहे वो अच्छी हो या बुरी.

इसके अलावा, मुझे ज़्यादा भुगतान करना पसंद नहीं है. स्टॉक ख़रीदते वक़्त सुरक्षा का एक मार्जिन होना चाहिए. खुलासे के तौर पर, मेरा नज़रिया ग्रोथ-ओरिएंटेड कंपनियों में निवेश करना शामिल है जो अपनी इवैलुएशन में सेफ़्टी का एक मार्जिन देती हैं.

कौन सी बातें किसी शेयर को आपके ख़रीदने के लिए आकर्षक बनाती हैं?
दूसरे सभी फ़ंड मैनेजरों की तरह, हम ये तय करने के लिए कि कोई बिज़नस अच्छा है या बुरा, बिज़नस के नज़रिया, रिटर्न रेशियो, कैश-फ़्लो का बनना और दूसरे बुनियादी बातों पर विचार करते हैं. एक बार जब हमें यह यक़ीन हो जाता है, तो हम देखते हैं कि क्या ये अगले कुछ सालों तक जारी रह सकता है.

दूसरा है परचेज़ प्राइस या ख़रीदने का मूल्य. चूंकि हमारा मक़सद अगले दो या तीन सालों में शेयर की क़ीमत में इज़ाफा करना है, इसलिए सही क़ीमत पर ख़रीदना ज़रूरी है.

अगला स्टेप है वैल्युएशन, जहां हर सेक्टर की अपनी बारीक़ियां होती हैं. मिसाल के लिए, फ़ाइनेंस सेक्टर में, हम प्राइज़-टू-बुक के मल्टिपल (price-to-book multiples) देखते हैं; कंज़्यूमर स्टेपल और IT में, हम PE रेशियो को देखते हैं; और कुछ इंजीनियरिंग सामान और फ़ार्मा कंपनियों के लिए, हम EV/EBITA को देखते हैं.

आख़िर में, हम निवेश के रिस्क का आकलन करते हैं. ये चार फ़ैक्टर - बिज़नस की बुनियादी बातें, परचेज़ प्राइस, वैल्युएश और रिस्क - किसी शेयर को ख़रीदने या बेचने के हमारे फ़ैसले को तय करते हैं.

आप क़रीब दो दशकों से DSP के साथ हैं. किस वजह से आप एक फ़ंड हाउस के लिए वफ़ादार रहे हैं? आपने DSP में अपने करियर को पिछले कुछ सालों में कैसे आगे बढ़ते देखा है?
मुझे अभी भी याद है जब मैं अपने इंटरव्यू के लिए DSP आया था. मैं सेल-साइड एनेलिस्ट के तौर पर अपने वक़्त से सभी फ़ंड मैनेजरों को अच्छी तरह से जानता था और वे मेरे काम से वाकिफ़ थे. हालांकि, जब मैं HR से मिला, तो उन्होंने बताया कि मैंने पिछले चार सालों में चार ऑर्गेनाइज़ेशन को जॉइन किया है और मेरी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाया. मैंने जवाब दिया कि शायद मैं सही ऑर्गेनाइज़ेशन में नहीं था. इसलिए, आर्गेनाइज़ेशन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, साथ ही ये मौक़े भी देती है.

2005 में, मैंने पोर्टफ़ोलियो के मैनेजमेंट सर्विस (PMS) में अपना करियर शुरू किया, लेकिन बाद में ये डिपार्टमेंट बंद हो गया. उस वक़्त, विनीत (DSP में इक्विटी के प्रमुख) भी मेरे साथ PMS में थे. ऑर्गेनाइज़ेशन ने हमारी प्रतिभा को पहचाना और हमें म्यूचुअल फ़ंड की तरफ एकजुट किया. DSP ने हमारे योगदान को महत्व दिया है और हमें मौके दिये हैं. हमारे पास कंपनी के अंदर ग्रो करने और बढ़ने के मौके हैं. सीधे शब्दों में कहें तो, यह 24 सालों में मेरी पांचवीं नौकरी है, लेकिन मैं पिछले 20 सालों से DSP के साथ हूं.

DSP डायनेमिक एसेट एलोकेशन फ़ंड का रिटर्न काफ़ी कम रहा है. चूंकि आपने पिछले 6 महीनों में इस स्कीम का सह-प्रबंधन शुरू किया है, इसलिए इसके परफ़ॉर्मेंस को बेहतर बनाने के लिए आपकी क्या योजनाएं हैं?
मेरी राय में, फ़ंड की ये कैटेगरी उन निवेशकों के लिए सही है जो बैंक फ़िक्स्ड डिपॉज़िट (FD) जैसे पारंपरिक प्रोडक्ट पर कुछ अलावा रिटर्न कमाते हुए कम से कम रिस्क चाहते हैं. एक फ़ंड मैनेजर के तौर पर मेरी समझ यह है कि स्टॉक का चुनाव और साइज़ स्थिर होना चाहिए. अगर मुझे स्टॉक A के लिए एक मज़बूत प्राथमिकता है, जो सभी ज़रूरी मानदंडों को पूरा करता है, तो मैं अपने टैक्स सेवर और इक्विटी अवसर फ़ंड में इसे ज़्यादा वेट एलोकेट (निवेश का हिस्सा ज़्यादा) रखूंगा. लेकिन अपने डायनेमिक एसेट एलोकेशन फ़ंड (DAF) में कम एलोकेशन रखूंगा. इसकी वजह ये है कि इसमें रिस्क और संभावित नेगेटिव नतीजों की उम्मीद है, इसलिए मैं अपने निवेश के साइज़ को कम करके रिस्क को कम से कम करने का लक्ष्य रखता हूं.

सबसे अच्छे निवेश तो होंगे, लेकिन उनका वेट इक्विटी में निवेश के मौक़ों और टैक्स सेवर फ़ंड्स के मुक़ाबले काफ़ी कम होगा. इसके अलावा, आपको अपने नियमित फ़ंड्स के मुक़ाबले पोर्टफ़ोलियो को अलग तरीक़े से बैलेंस करना होगा. मिसाल के लिए, मार्केट तेज़ी के दौरान, आपको फ़ंड के बीटा को कम करने का लक्ष्य रखना चाहिए. फ़ंड की सोच नेगेटिव साइड की रक्षा करना और वैल्यू या ग्रोथ स्टाइल के इन्वेस्टमेंट में बहुत ज़्यादा निवेश से बचना है. मेरा मानना ​​है कि ये नज़रिया हमारे और हमारे निवेशकों का अनुभव बढ़ाएगा.

आप एक दशक से भी ज़्यादा वक़्त से DSP टाइगर फ़ंड का मैनेजमेंट कर रहे हैं. एक साल में इंफ्रास्ट्रक्चर इंडेक्स में 115 फ़ीसदी की बढ़ोतरी के बावजूद, इंफ्रास्ट्रक्चर फ़ंड इंडेक्स के मुक़ाबले कमज़ोर प्रदर्शन करते नज़र आ रहे हैं. इस कमज़ोर प्रदर्शन की वजह क्या है, और क्या आपको लगता है कि निवेशकों के लिए साइक्लिकल थीमैटिक फ़ंड में निवेश करना अभी भी समझदारी भरा है?
मैं आपकी बात से अलग राय रखता हूं और अपने तर्क के पक्ष में कुछ डेटा देना चाहूंगा. अपनी शुरुआत से ही, फ़ंड ने 18 फ़ीसदी का कुछ ज़्यादा कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट (CAGR) रिटर्न दिया है. पिछले 15 साल में, यह NSE 500 को पीछे छोड़ते हुए क़रीब 15 फ़ीसदी बढ़ा है. अब, अगर आप बेंचमार्क को देखें, तो आपके पास इंडेक्स में 15 या 20 फ़ीसदी वेट वाले स्टॉक हैं. हालांकि, एक फ़ंड मैनेजर के तौर पर, मैं पोर्टफ़ोलियो में प्रति स्टॉक अधिकतम 10 फ़ीसदी एलोकेशन तक सीमित हूं. इसलिए, आपको इसके रिटर्न के मुक़ाबले के लिए NSE 500 जैसे व्यापक इंडेक्स को देखना होगा. अगर हम TIGER फ़ंड के रिटर्न की तुलना NSE 500 से करें, तो इसने वक़्त के साथ काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया है.

आपके दूसरे सवाल के बारे में, मैंने 2010 में काम संभालने के बाद से टाइगर फ़ंड के लिए तीन बार पिच की है. पहले दो पिच के दौरान, मैंने सुझाव दिया था कि इस फ़ंड में 15-18 महीने के लिए निवेश करने से पॉज़िटिव रिटर्न मिलने की उम्मीद है. हालांकि, 2021 के आसपास, मैंने निवेशकों को इंफ्रास्ट्रक्चर थीम के लिए पांच साल के निवेश क्षितिज पर विचार करने की सलाह दी. आज भी, मैं अपने निवेशकों को पांच साल की निवेश अवधि की सलाह देता हूं. मूल रूप से, निवेशकों को इस थीम में लंबी अवधि तक बने रहना चाहिए.

ये आत्मविश्वास इस बात से उपजा है कि जब मैंने 14 साल पहले फ़ंड को संभाला था, तो हम बीमा कंपनियों की ऑर्डर बुक और बिक्री पर बारीक़ी से नज़र रखते थे. इसलिए, ऑर्डर बुक-टू-सेल्स रेशियो जितना ज़्यादा होगा, कंपनी उतनी ही बेहतर होगी. हम बैलेंस शीट और मुनाफ़े और नुकसान विवरण भी देखते थे लेकिन आज, मैं निवेश पर रिटर्न (ROE), कैश फ़्लो और कंपनियों द्वारा दिए जाने वाले डिविडेंट पर नज़र रख रहा हूं. इसलिए, बिज़नस का पूरा दायरा बदल गया है.

इंफ़्रास्ट्रक्चर की थीम में कई सब-सेक्शन (उप-खंड) शामिल हैं, जैसे अपघर्षक (abrasives), निर्माण सामग्री (construction materials) और विनिर्माण (manufacturing). इसलिए, मुझे इस सेक्टर से बहुत उम्मीद है और मैं चाहूंगा कि निवेशक तीन से पांच साल के निवेश का कमिटमेंट रखें.

ये भी पढ़िए - सस्ता ख़रीदो, महंगा बेचो! पर सस्ते क्वालिटी स्टॉक्स कहां मिलेंगे?


दूसरी कैटेगरी