धनक से पूछें

अपने बच्चों के लिए निवेश कैसे करें?

निवेश मोटे तौर पर इस बात पर निर्भर करता है कि आप बिना कोई रिस्क लिए साधारण रिटर्न चाहते हैं या थोड़ा रिस्क लेकर अपनी वेल्थ को बढ़ाना चाहते हैं

अपने बच्चों के लिए निवेश कैसे करें?

मैं अपने छोटे बच्चे के लिए निवेश कैसे करूं और किस तरह के निवेश का चुनाव करूं? - आशुतोष यादव

अगर आपके बच्चे छोटे हैं, तो आपके पास निवेश करते रहने का ज़्यादा वक़्त है, और ये एक अच्छी बात है. निवेश जितनी जल्दी शुरू किया जाए, उतना अच्छा रहता है. ऐसे में आपको ज़्यादा समय मिलता है और बड़ी रक़म बचाने का आर्थिक बोझ भी नहीं रहता. लेकिन, एक अहम बात ये भी है कि आप अपनी बचत के पैसे को निवेश में लगाते हुए कितना रिस्क लेना चाहते हैं. अगर ज़्यादा रिस्क नहीं चाहते तो रिटर्न साधारण होंगे, या अगर थोड़ा ज़्यादा रिस्क ले सकते हैं तो आपकी पूंजी भी ज़्यादा बढ़ सकती है.

हो सकता है आप उस कैटेगरी के निवेशक हों कि आप बिना कोई रिस्क लिए ही अपने बच्चों की पढ़ाई या शादी के लिए बड़ी रक़म जोड़ना चाहते हैं ऐसे में, फ़िक्स्ड डिपॉज़िट (FD), पब्लिक प्रॉविडेंट फ़ंड या PPF या फिर सुकन्या समृद्धि योजना जैसे तमाम विकल्प आपके पास हैं.

इनमें आपको सालाना 7-8 फ़ीसदी के आसपास तयशुदा रिटर्न मिलेगा. वहीं, अगर आपकी उम्र कम है यानी निवेश के लिए लंबा समय है तो निवेश के कुछ ज़्यादा उतार-चढ़ाव भरे, लेकिन ज़्यादा रिटर्न वाले विकल्पों पर ग़ौर कर सकते हैं. इक्विटी म्यूचुअल फ़ंड भी ऐसा ही विकल्प है.

अगर आप इक्विटी निवेश से अनजान हैं तो आप जैसे निवेशकों को हम हमेशा ही SIP के ज़रिये म्यूचुअल फ़ंड में निवेश की सलाह देते रहे हैं. असल में, आप हर महीने कमाते हैं तो लगातार और थोड़ा-थोड़ा हर महीने ही निवेश करना चाहिए.

आपके लिए ऑप्शन

  • आप टैक्स सेविंग के साथ दमदार रिटर्न के लिए ELSS फ़ंड में निवेश कर सकते हैं.
  • अगर, बच्चे की उम्र कम है तो स्मॉल कैप फ़ंड आपके लिए अच्छे विकल्प हो सकते हैं. हालांकि, आपमें सब्र है तभी इनमें निवेश करें, क्योंकि इन फ़ंड्स में उतार-चढ़ाव ख़ासा ज़्यादा होता है और लंबे समय में ही इनके अच्छा रिटर्न देने की संभावनाएं होती हैं. इनमें निवेश करते समय ध्यान रखने लायक़ बातें जानने के लिए यहां क्लिक करें.
  • हालांकि, अगर स्मॉल-कैप के मुक़ाबले कम रिस्क के साथ अच्छा रिटर्न हासिल करना चाहते हैं तो लार्ज कैप, फ़्लेक्सी कैप या एग्रेसिव हाइब्रिड जैसी फ़ंड कैटेगरी में से फ़ंड चुनने पर विचार कर सकते हैं.

ये भी पढ़िए - स्टॉक या म्यूचुअल फ़ंड, ₹1 लाख कहां निवेश करें?

ध्यान रखने वाली बात

अपने निवेश के लक्ष्य के पास पहुंचने पर आपको एक बात ध्यान रखनी चाहिए. असल में, जिस तरह आप SIP के ज़रिये धीरे-धीरे निवेश करते हैं, वैसे ही आपको धीरे-धीरे निवेश निकालने की सलाह दी जाती है. यानी, आपको अपने गोल के क़रीब पहुंचने पर एक से डेढ़ साल पहले धीरे-धीरे निवेश निकालने की शुरुआत कर देनी चाहिए.

बेस्ट म्यूचुअल फ़ंड

लंबे समय के निवेश में मार्केट में निवेश करके फ़ायदा न लेना कोई समझदारी नहीं है. ऐतिहासिक डेटा दिखाता है कि लंबे समय के दौरान मार्केट ऊपर ही गए हैं. और फिर भारत की तेज़ आर्थिक ग्रोथ का फ़ायदा हर लंबे समय के निवेशक को उठाना ही चाहिए.

लंबे समय से हमारा मतलब है 5 या उससे ज़्यादा लंबा अर्सा. क्योंकि आपका निवेश इससे कहीं लंबा होगा इस लिए इक्विटी फ़ंड्स में निवेश के बारे में ज़रूर सोचें और इस निवेश को SIP के ज़रिए हर महीने थोड़ा-थोड़ा करें. अगर पहली बार इक्विटी निवेश कर रहे हैं, तो आपको अग्रेसिव हाइब्रिड फ़ंड्स में निवेश करना चाहिए. इनका ज़्यादा निवेश इक्विटी में होता है जो आपको ग्रोथ देता है, और कुछ निवेश डेट में होता है जो मार्केट की गिरावट के दौरान आपकी पूंजी बहुत कम नहीं होने देता.

अगर आपको अपने लिए म्यूचुअल फ़ंड चुनने में कोई समस्या आ रही है तो आप हमारे बेस्ट म्यूचुअल फ़ंड टूल को इस्तेमाल कर सकते हैं. यहां आप फ़ंड्स के लिए हमारे द्वारा दी गई 1 से 5 तक की स्टार रेटिंग जान सकते हैं. ये टूल निवेश की शुरुआत करने में ख़ासा मददगार हो सकता है.

ये भी पढ़िए- पांच साल में अपना निवेश दोगुना कैसे करें?

क्या आपके मन में कोई और सवाल है? हमसे पूछिए


दूसरी कैटेगरी